Jitendra Ved

बस यूं ही

जंगल है पर पत्तियाँ नहीं हैं ढेरों प्लास्टिक की थैलियाँ लाल,पीली,काली,नीली कुछ कड़क,कुछ पिलपिली ढूंढ

Facebook
Google+
http://swargvibha.in/onlinemagazine/category/writer/jitendra-ved">
Twitter
LinkedIn