गैर की जिक्रे-वफ़ा पर जलता दिल,वो क्या जाने–डॉ. श्रीमती तारा सिंह

गैर की जिक्रे-वफ़ा1 पर जलता दिल, वो क्या जाने
वो तो हमारी हर बात पर कहती, खुदा जाने

किस-किस का न दिल खूँ हुआ होगा जब उसने
अपने सीने से दुपट्टे को सरकाया होगा, वो क्या जाने

हम तो बेखुद रहे उसकी याद में, वह कब आई
कब मिली , कब चली गई, हम क्या जाने

नींद आई नहीं रात तड़प-तड़प कर बीती उसके
इंतजार में, इनकार होता है क्या, वो क्या जाने

कभी लड़ना,कभी मिलना,कभी दिल तोड़कर चल देना
उस शोख-तबीयत2 को, देवता ना जाना,हम क्या जाने

1. दूसरों की अच्छाई 2.शरारती ढंग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Google+
http://swargvibha.in/onlinemagazine/2018/11/17/%E0%A4%97%E0%A5%88%E0%A4%B0-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%9C%E0%A4%BF%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%87-%E0%A4%B5%E0%A4%AB%E0%A4%BC%E0%A4%BE-%E0%A4%AA%E0%A4%B0-%E0%A4%9C%E0%A4%B2%E0%A4%A4%E0%A4%BE">
Twitter
LinkedIn