हम आज कुछ खुश  हैं ।

कुछ उदास ।

सोचते हैं

उनसे कहें कुछ आज ।

सुनते नहीें वो हमारी आवाज ।

सोचते हैं मिलेंगें उनसे ।

जी भर के करेंगंें बात ।

पूछेगें …………………………

आई नहीं मेरी याद ।

बातें सुना नहीं सकते

किसी से ।

दर्द

बांट नहीं सकते

किसी से ।

तुम होते तो

अकेलापन न होता ।

रिष्ता न निकालना पड़ता

किसी से ।

अब अगले जन्म

मिलेंगें जरुर ।

पुराना रिष्ता जो है

तुन्हीं से ।

आज हम खुश हैं ।

और

कुछ उदास

पता है

इस जन्म में

सुनोगे

नहीं

हमारी आवाज ।

ऋचा शर्मा डाईट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Google+
http://swargvibha.in/onlinemagazine/2018/10/27/%E0%A4%B2%E0%A4%AE%E0%A5%8D%E0%A4%B9%E0%A5%87%E0%A4%82">
Twitter
LinkedIn