शाख से कली का बिछड़ना

शाख से कली का बिछड़ना
रास आया कब चमन को,
अच्छा है बुरा है यारों
ज़माने का चलन है।

 

अमरेश सिंह भदौरिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Google+
http://swargvibha.in/onlinemagazine/2018/10/20/%E0%A4%B6%E0%A4%BE%E0%A4%96-%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%95%E0%A4%B2%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%AC%E0%A4%BF%E0%A4%9B%E0%A5%9C%E0%A4%A8%E0%A4%BE">
Twitter
LinkedIn