भृष्टाचार

लघुकथा: भृष्टाचार

दलालों को पता है
मृग सोने का हो तो
बीवी की इच्छा बता के
मर्यादा पुरुषोत्तम भी
उसके पीछे दौड़ लेते है।

 

लघुकथा: राष्ट्रवादी

उन राष्ट्रवादी मित्रों का अभिनंदन जिन्हें नही पता
देश की अर्थव्यवस्था का भाइयों बहनो किसने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Google+
http://swargvibha.in/onlinemagazine/2018/10/20/%E0%A4%AD%E0%A5%83%E0%A4%B7%E0%A5%8D%E0%A4%9F%E0%A4%BE%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B0">
Twitter
LinkedIn