आस्था हुई आडम्बर युक्त धरम-करम घट गया

आस्था हुई आडम्बर युक्त धरम-करम घट गया।
जोड़ने की शर्त थी पर टुकड़ा-टुकड़ा बट गया।
वैमनस्य कटुता यहाँ खूब फली फूली रिश्तों में,
परिणाम प्रत्यक्ष है आदमी-आदमी से कट गया।
अमरेश सिंह भदौरिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Google+
http://swargvibha.in/onlinemagazine/2018/10/16/%E0%A4%86%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%A5%E0%A4%BE-%E0%A4%B9%E0%A5%81%E0%A4%88-%E0%A4%86%E0%A4%A1%E0%A4%AE%E0%A5%8D%E0%A4%AC%E0%A4%B0-%E0%A4%AF%E0%A5%81%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%A4-%E0%A4%A7%E0%A4%B0">
Twitter
LinkedIn