आरजू थी कि आज का जाम,हम तुम्हारे नाम करें–डॉ. श्रीमती तारा सिंह

आरजू थी कि आज का जाम , हम तुम्हारे नाम करें
तेरे कैद- ए-कफ़स1 में रहकर , रात आराम करें

मेरे इश्क को तुम्हारे दामन का कभी न सहारा मिला
हम कैसे अपने बज़्म2में,तुम्हारे नाम का अहतमाम3करें

रहता नहीं अपना मुकद्दर भी अपने साथ कभी हम
अपना नाम तुम्हारे नाम कर क्यों तुमको बदनाम करें

दुनिया में नकदे-इबादत4 कर लोग जन्नत को
खरीदने लगे , हमारे पास माल कहाँ, जो दाम करें

रश्मे–तहरीर5 कब की मिट चुकी हम दोनों के बीच
अब लिखकर खत , हम क्यों तुमको बदनाम करें

1. प्रेम-कारागार 2.मजलिस 3.प्रबंध 4.पूजा धन
5.लिखने की प्रथा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Google+
http://swargvibha.in/onlinemagazine/2018/09/30/%E0%A4%86%E0%A4%B0%E0%A4%9C%E0%A5%82-%E0%A4%A5%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A4%BF-%E0%A4%86%E0%A4%9C-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%9C%E0%A4%BE%E0%A4%AE%E0%A4%B9%E0%A4%AE-%E0%A4%A4%E0%A5%81%E0%A4%AE%E0%A5%8D">
Twitter
LinkedIn