ज़िन्दगी से राबता हो जाएगा

ज़िन्दगी से राबता हो जाएगा
~~~~~~~~~~~~~~~

गर्दीशी में सब निहाँ हो जाएगा |
हौंसलों से सब अयाँ हो जाएगा |

 

मुस्कुराकर देख लो गर प्यार से –
दिल का दिल से वासता हो जएगा |

 

नफरतों का आइना गर तोड़ दो –
ज़िन्दगी से राबता हो जाएगा |

 

मुफलिसी जब घेर लेती राह में –
दर्द गम का हादसा हो जाएगा |

 

दुःख सुखों की रेल जब चलने लगे –
जीना मरना साथ का हो जाएगा |

 

दुश्मनो से दोस्ती हो जाए गर –
खुशनुमा सारा जहाँ हो जाएगा |

 

मन “मृदुल” रख कर करो सत्कर्म सब –
हर नज़ारा फिर जवाँ हो जाएगा |

मंजूषा श्रीवास्तव”मृदुल”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Google+
http://swargvibha.in/onlinemagazine/2018/09/17/%E0%A5%9B%E0%A4%BF%E0%A4%A8%E0%A5%8D%E0%A4%A6%E0%A4%97%E0%A5%80-%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%AC%E0%A4%A4%E0%A4%BE-%E0%A4%B9%E0%A5%8B-%E0%A4%9C%E0%A4%BE%E0%A4%8F%E0%A4%97%E0%A4%BE">
Twitter
LinkedIn