TOP BANNER

TOPBANNER







flower



mar 2017
कविताएँ 

आलेख

गज़ल

गीत

मुक्तक

हाइकु

कहानी





संस्थापिका एवं प्रधान सम्पादिका--- डॉ० श्रीमती तारा सिंह
सम्पादकीय कार्यालय--- --- 1502 सी क्वीन हेरिटेज़,प्लॉट—6, सेक्टर—
18, सानपाड़ा, नवी मुम्बई---400705
Email :-- swargvibha@gmail.com
(m) :--- +919322991198

flower5

rosebloom





 

 

 

 

चलता हूँ मैं कहाँ अकेला--डॉ० श्रीमती तारा सिंह

 

 

चलता हूँ मैं कहाँ अकेला
चलता हूँ मैं कहाँ अकेला
तुम जो मेरे संग चलती हो
जब टूटने लगते सपने सारे
आश का दीपक जलाती हो
चलता हूँ मैं कहाँ अकेला
तुम जो मेरे संग चलती हो

 

 

मेरे प्राणों का अवलंबन बन
दिवा - रात्रि मेरे संग होती हो
मेरे नयन लोक के विरह तम में
ज्योति बन जलती रहती हो
चलता हूँ मैं कहाँ अकेला
तुम जो मेरे संग चलती हो

 

 

तुम बिन मेरा यह जीवन सूना
सूने में रहता , दुख दूना
लेते ही नाम तुम्हारा, प्रदीप्त
हो उठता, उर का कोना- कोना
तुम नित विविध बंधन में
बंधकर मेरे आँगन रहती हो
चलता हूँ मैं कहाँ अकेला
तुम जो मेरे संग चलती हो

 

 

तुम जो मेरे संग न चलती
प्रिये ! मेरी पथ - प्रदर्शिका बन
तो जरा भी शंसय नहीं कि
मैं कब का टूटकर बिखर गया होता
मिट जाता होकर कण - कण
तुमने खुद को देवों को किया समर्पित
मेरे लिए तो तुम खुद देवी हो
चलता हूँ मैं कहाँ अकेला
तुम जो मेरे संग चलती हो
( मेरे एक मित्र की ओर से, पत्नी की याद में )

 

 

HTML Comment Box is loading comments...