TOP BANNER

TOPBANNER










 

 

पैसों की खातिर प्रदेश में बिक रही हैं बेटियां--Pressvarta

 

 

जोधपुर(प्रैसवार्ता)। राजस्थान में बेटियां पैसों की खातिर बेची जा रही हैं। ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जिनमें बेटियों को तीन गुना अधिक उम्र के लोगों के साथ रुपए लेकर ब्याह दी गई। नारी सशक्तिकरण के कितने ही ढोल पीटे जाएं और महिलाओं को आरक्षण मिल भी जाए तो पुरुष प्रधान समाज में उसकी स्थिति में खास फर्क नहीं आया है। राजस्थान में बेटियां न घर में सुरक्षित है और न ही बाहर। हालत यह है कि बेटियों को उनके माता-पिता और घर के बुजुर्ग पैसों की खातिर तीन गुना बड़े लोगों से ब्याह रहे हैं। कई मामलों में बेटी सब कुछ सहन कर लेती है, लेकिन अब विरोध भी मुखर होने लगा है। स्वयंसेवी संस्थाओं की मदद से ऐसे मामले सामने आने लगे हैं और बेटियों को न्याय भी मिलने लगा है। राजस्थान के अजमेर जिले का ताजा मामला सामने है। 15 साल की भवंती सेन के दादा ने दो लाख रुपए लेकर उसका विवाह लगभग तिगुनी उम्र के व्यक्ति से कर दिया था। विरोध जताने पर उसने न सिर्फ भवंती के माता-पिता को बंधक बना लिया बल्कि जाति पंचों से धमकी भी दिलाई। शुक्रवार को भगत की कोठी स्थित सारथी कार्यालय में पत्रकार वार्ता में संस्था की कार्यकर्ता कृति भारती ने यह मुद्दा उजागर किया। यह पहला मामला नहीं है। जोधपुर, बाड़मेर, बीकानेर, जैसलमेर, नागौर, अजमेर और अन्य कई जिलों में जो स्थिति सामने आ रही है, वह चौकाने वाली है। राजस्थान में पैसे लेकर बेटियों की शादी बड़ी उम्र के लोगों के साथ करने के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। मगर सरकार कोई सख्त कदम नहीं उठाती। न ही ऐसे लोगों को सजा मिल पाती। मामलों में जातीय पंचों की भूमिका हमेशा खलनायकी वाली रही है। बेटी को न्याय दिलाने की बजाय अन्याय का साथ दिया जाता है। दूसरी ओर बेटियां भी मुखर होकर विरोध नहीं कर पाती। इक्का-दुक्का मामले ही सामने आते हैं, वे भी एनजीओ के माध्यम से। अजमेर की भवंती के मामले में भी सारथी संस्था की कृति भारती ने पहल की। अब उम्मीद की जा सकती है कि कोर्ट से भवंती को न्याय मिलेगा। लेकिन ऐसी कितनी ही भंवती है, जिन्हें भी सहारे की जरुरत है।

गरीबी की वजह से बढ़ रहे हैं मामले
राजस्थान में बेटियों को इस तरह बेचने के पीछे पारिवारिक गरीबी भी बड़ा कारण माना जाता है। माता-पिता के सामने घर खर्च चलाने और बेटी का ब्याह आसानी से करने के लिए यही रास्ता अपनाया जाता है। लेकिन इससे अपनी ही बेटी के साथ वे अन्याय कर रहे हैं। इस अन्याय को रोकने की दिशा में किसी सरकार ने कार्य नहीं किया। चाहे वसुंधरा राजे की सरकार रही हो और चाहे अशोक गहलोत की। दोनों ही मुख्यमंत्रियों ने बेटी को इस अन्याय से बचाने के लिए पहल नहीं की। योजनाएं तो खूब बनी मगर बेटी को न्याय नहीं मिला।

पिछड़ी जातियों में मामले अधिक
इस तरह शादी करवाने के मामले पिछड़ी जातियों में अधिक सामने आ रहे हैं। माता-पिता बेटियों को ज्यादा उम्र के साथ शादी करने को मजबूर कर रहे हैं। ऐसा नहीं है कि ऐसा हाल ही में हो रहा हो, बल्कि ये परंपरा वर्षों से चली आ रही है। खासकर पश्चिमी राजस्थान में आए साल अकाल पडऩे और रोजगार के अवसर कम होने की वजह से गरीबी व मजबूरी में बेटियां बेची जा रही हैं।

शिक्षा की वजह से कुछ जागृति आई है
नाबालिग बेटियों को अधिक उम्र के व्यक्ति के साथ पैसे लेकर ब्याहने के मामले अब सामने आने लगे हैं। बेटियां खुद आगे आकर यह रिश्ता ठुकराने लगी हैं, लेकिन ऐसे मामलों में पुलिस की भूमिका सकारात्मक नहीं रही है। पुलिस बेटी के साथ न्याय करने की बजाय समझौता करवाने में जुट जाती है। भला हो एनजीओ का जो इस तरह के मामलों में धैर्य, संयम और स्वाभिमान बेटी का साथ देते हैं। महिला एवं बाल विकास केंद्र की परियोजना निदेशक इंदू चोपड़ा ने पूर्व में ऐसे मामलों को उजागर किया है और बेटियों को न्याय दिलाया है। दिल्ली की विजया सानी ने भी ऐसे मामलों के खिलाफ अभियान चलाया है।

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...