TOP BANNER

TOPBANNER







flower



mar 2017
कविताएँ 

आलेख

गज़ल

गीत

मुक्तक

हाइकु

कहानी





संस्थापिका एवं प्रधान सम्पादिका--- डॉ० श्रीमती तारा सिंह
सम्पादकीय कार्यालय--- --- 1502 सी क्वीन हेरिटेज़,प्लॉट—6, सेक्टर—
18, सानपाड़ा, नवी मुम्बई---400705
Email :-- swargvibha@gmail.com
(m) :--- +919322991198

flower5

rosebloom





 

 

 

अंक: मार्च 2018   


LOGO



redrose



flowers1



tulips










flower3



valrose

जिंदगी की शाम ढ़लने लगी -— डा० श्रीमती तारा सिंह

 

 

जिंदगी की शाम ढ़लने लगी
न तुम मिले, न तुम्हारा सहारा मिला

 

भटक गये गम के अंधेरे में हम
उम्र भर न तुम्हारा इशारा मिला

 

हम अकेले थे, दिल भी बीमार था
न दवा ही मिली,न तीमार-दारा मिला

 

मौत ने जब मुस्कुराकर पुकारा मुझे
लगा , जिंदगी को किनारा मिला

 

मिट गये जमाने के सारे गिले,अब
न शिकवा रहा , न शिकारा मिला

 

आ गये जिंदगी से बहुत दूर हम
न तुम मिले, न दामन तुम्हारा मिला

 

चलते- चलते आ गए हम किस मोड़ पर
जहाँ न सूरज मिला,न चाँद दुलारा मिला

 

दूर तक आसमां , आसमां था मगर
आसमां में न कोई सितारा मिला

 

 

HTML Comment Box is loading comments...