TOP BANNER

TOPBANNER







flower



mar 2017
कविताएँ 

आलेख

गज़ल

मुक्तक

हाइकु

कहानी





संस्थापिका एवं प्रधान सम्पादिका--- डॉ० श्रीमती तारा सिंह
सम्पादकीय कार्यालय--- --- 1502 सी क्वीन हेरिटेज़,प्लॉट—6, सेक्टर—
18, सानपाड़ा, नवी मुम्बई---400705
Email :-- swargvibha@gmail.com
(m) :--- +919322991198

flower5

rosebloom





 

 

 

अंक: जून २०१७


LOGO



redrose



flowers1



tulips










flower3



valrose

 

सुगनी का गौना--डॉ० श्रीमती तारा सिंह

 

 

फ़ुलका गाँव के मृत सिद्देश्वर राय की एक बेटी थी, नाम था ,’सुगनी’ । उसकी शादी उन्होंने अपने जीवनकाल में ही ,मुरैया गाँव के मुखिया के बेटे के साथ दे दिया था । मगर पाँच साल बीत जाने के बाद भी, सुगनी के ससुराल वाले गौना कराने नहीं आये । दुखी-पड़ेशान सिद्धेश्वर राय ने कई खत ,विश्वनाथ ( सगुनी के ससुर ) को लिखते हुए अपनी चिंता व्यक्त कर कहा---
समधी जी,
मैं अब पके फ़ल की तरह कुछ दिनों का ,दुनिया में मेहमान हूँ । मे्रा स्वास्थ्य ठीक नहीं चल रहा, पता नहीं कब गिर जाऊँ; मैं बेटी का पिता होने के नाते, बहुत चिंतित रहा करता हूँ । अब तो इतनी शक्ति भी नहीं बची, कि खुद से जाकर आपसे विनती कर सकूँ ; चिंता ने मुझे कहीं का नहीं छोड़ा । मैं टूट चुका हूँ । समधी जी ,जीवन–सूत्र ,ताँत की बनी कोई डोर नहीं, कि चाहे जितना झटक दो, टूटने का नाम न ले । पक्षी पिंजड़े से निकल भागने तड़फ़ड़ा रहा है । इसके पहले की सुगनी पितृहीन हो जाये,आप अपने घर की लक्ष्मी को गौना कराकर ले जाने की मुझ पर दया करें ।
आपका अभागा------ सिद्धेश्वर
बचपन से ही सिद्धेश्वर राय , धार्मिक प्रवृति के होने के कारण , नींद खुलते ही ईश्वर उपासना में लग जाते थे । आध घंटे तक चंदन रगड़ते, फ़िर आईने के सामने जाकर एक तिनके से माथे पर तिलक लगाते । ललाट पर चंदन की दो रेखाओं के बीच लाल रोड़ी की बिंदी लगाकर , कृष्ण की मूर्ति को निकालकर नहलाते थे , फ़िर फ़ूल-चंदन अर्पण करते थे । एक दिन वे पूजन-गृह से बाहर निकले तो उनकी नजर पहाड़ी-आकाश पर पड़ी ; देखा---- संध्या के फ़ैले रंगीले पट पर विहंग, पंक्ति बाँधकर कलरव करते अपने घर को लौट रहे हैं । लेकिन हवा, जंगल-झाड़ियों से अंधकार को खींचकर उनकी राहों में अंधेरा फ़ैलाने की कोशिश कर रही है । यह सब देखकर सिद्धेश्वर का हृदय काँप गया । उनकी नजरों के आगे सुगनी का मासूम चेहरा नाचने लगा । वह सोचने लगा--- सुगनी के भी घर लौटने की राह में अंधेरा फ़ैलता जा रहा है । क्या एक दिन, वह इसी निविड़ अंधकार में खो जायगी ? सिद्धेश्वर कुछ देर मौन-शांत सोचते रहे, कि अचानक चिल्ला पड़े ---- अन्यायी समीर ! कान धरकर मेरी बात सुनो । देखो---- तुम्हारी क्रूरता पर बुलबुल किस तरह क्रन्दन कर रही है ; उसकी आह तुझे कहीं का नहीं छोड़ेगी । सिद्धेश्वर के चिल्लाने की आवाज सुनकर ,उनकी पत्नी जानकी दरवाजे पर दौड़ती हुई आई और पति को अपनी आँख के आँसू अँगोछे से पोछ रहे, देखकर घबड़ा गई ; उसने पूछा---- क्या हुआ , आपकी आँखों में आँसू !
सिद्धेश्वर, तीक्ष्ण स्वर में बोला---- कुछ नहीं ।
जानकी को अपने शेर पति की बातों पर आज पहली बार यकीन नहीं हो रहा था । उसने एक अपराधी की तरह, फ़िर पूछा--- बात तो कुछ है, आप मुझे बताइये । हो सकता है, मैं आपकी कुछ सहायता कर सकूँ ।
सिद्धेश्वर , थोड़ी देर तक मुक्त आकाश में बादलों को उड़ते हुए देखते रहे , और फ़िर पत्नी जानकी से बोले--- देखो, इन बादलों को ; कैसे हवा इसके संग क्रीड़ा कर रही है ?
जानकी आकाश की ओर नजर उठाकर देखी और बोली ----- अद्भुत , सुंदर ही नहीं आकर्षक भी है ।
सिद्धेश्वर आर्द्र स्वर में बोले---- बस इतना ही, और कुछ नहीं ?
जानकी, पति की बाँह पकड़कर बोली ----- आप चिंतित , परेशान दीख रहे हैं । लगता है आप थक चुके हैं, आपको आराम की जरूरत है । आप बिस्तर पर जाकर आराम कीजिये ।
पत्नी की बात मानकर वे बिस्तर पर लेट गये और लेटे-लेटे सोचने लगे ---- गलती विश्वनाथ की नहीं, मेरी है,जो मैंने एक दरिद्र बाप की बेटी को मुखिया के घर शादी देकर सिंघासन पर बैठाने के सपने को जीवन-आधार मानकर सोता रहा, और आत्मोन्नति के झूठे प्रयास में सुगनी के जीवन को शुष्क और निरीह कर दिया ।
सिद्धेश्वर की आत्मा, लज्जा, ग्लानि की मानसिक पीड़ा में तड़पने लगी और उन्होंने तय कर लिया---घर में चार आदमी हैं, सबों के लिए रोटी की व्यवस्था मैं कर सकता हूँ, तो क्या एक सुगनी की नहीं कर सकता , जो मैं किसी भिखारी की भाँति नित विश्वनाथ के आगे गिरगिराता हूँ । इस न्याय-विहीन संसार में यदि चोरी, हत्या अधर्म है, तो क्या एक जवान लड़की की जिंदगी से इस प्रकार खेलना पाप नहीं है । यद्यपि सिद्धेश्वर न्याय के रास्ते थे और विश्वनाथ मुलजिम; लेकिन यथार्थ में दशा इसके प्रतिकूल थी । सिद्धेश्वर मानसिक पीड़ा से ऊबकर आत्महत्या के लिए खुद को तैयार कर रहे थे और विश्वनाथ का मुख ,यह सब जानकर निर्दोषिता के प्रकाश से चमकता रहा था ।
सिद्धेश्वर जब भी सुगनी की ओर देखते थे, उसे अपनी दरिद्रता पर दुख नहीं, लज्जा आने लगती थी । उन्होंने बेटी के भविष्य की चिंता कर अपने शरीर को घुला डाला और एक दिन दुनिया को ही अलविदा कह दिया । सिद्धेश्वर के अकस्मात चल बसने की खबर सुगनी के ससुराल वालों को भेजा गया, लेकिन वहाँ से कोई , शोक संतप्त परिवार से मिलने तक नहीं आया । इतना सब घटित होने के बाद भी सुगनी का,जो पहली बार पति से आत्मिक सामंजस्य हुआ था, उसे भूलने के लिए तैयार नहीं थी । उसका मानना था, कपड़े ज्यों जिस्म की हिफ़ाजत करते हैं, त्यों प्यार हृदय की हिफ़ाजत करता है । मुझे ऐसे प्यार पर गर्व होता है, वेदना नहीं , लेकिन पिता की मृत्यु ने उसे झकझोर कर रख दिया । जिस मुख पर आत्म-गौरव रहा करता था, अब वहाँ वेदना छाई रहने लगी । उसके लिये अपमान –अनादर ,अधिक हृदय-विदारक हो गया था । वह खुद को अपने हृदय- वेदना की दहकती आग में झुलसने से बचाने के लिए गाँव के बाहर पोखरे में जाकर कूद गई । यह खबर , सुगनी के पति रसिकलाल को जब मिला; वह रोता- बिलखता ससुराल आया । सुगनी को चिता पर लेटा देख वह बिफ़र उठा, और अपनी छाती को जोर-जोर से पीटने लगा । जिसे देखकर , मानवता का विद्रोही ( विश्वनाथ ) की आत्मा एक बार आन्दोलित हो उठी , मगर दूसरे ही क्षण उसके मुख पर वही कठोर मुस्कान चमक उठी । पिता की विद्रोह भरी ललकार , रसिकलाल को स्तम्भित कर दिया, लेकिन वह डरा नहीं । उसने अपनी उँगली पर दाँत गड़ाकर लहू की कुछ बूँदें निकाली , और सुगनी की माँग में भर दी और कहा ---- प्रिये ! गौना कराकर तुमको अपने घर तो नहीं ले जा सका, लेकिन तुम जहाँ जा रही हो, मैं तो वहाँ आ सकता हूँ, मेरे आने का इंतजार करना ।

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...