TOP BANNER

TOPBANNER










 

 

इकलौती बहू---डा.नन्दलाल भारती

 

 

चिन्ताप्रसाद कुल जमा चैथी जमात तक पढ़े थे पर खानदानी चालाक थे।चिन्ताप्रसाद के पुरखों ने कमजोर वर्ग के लोगों को भूमिहीन बनाने में बड़ी भूमिका निभाई थी। अंग्रेजों के जमाने में भूमिका लेखा -जोखा रखना इनका खानदानी पेषा था पर आजादी के बाद सब कुछ सरकार की अधीनस्थ हो गया।नौकरी के लिये इष्तहार निकलने लगे। नौकरी के लिये कोई भी आवेदन कर सकता था,पढ़े- लिखे नवयुवक ने परम्परागत् एकाधिकार को पटकनी दे दी। चिन्ताप्रसाद पैतृक व्यवसाय हाथ नहीं लगने कीउम्मीद खत्म हो गयी थी। वेबचपन में षहर की ओर भाग चले थे । षहर में आने के बाद उन्हें नौकरी के लिए दर-दर भटकना नहीं पड़ा।जैसे नौकरी उनकी इन्तजार कर रही थी। कालेज की कैन्टीन में चिन्ताप्रसाद को काम मिल गया।तनख्वाह के साथ खाना रहना मुफ्त मिलने लगा।चिन्ताप्रसाद की तनख्वाह सूखी बच जाती थी। साल भर के चिन्ताप्रसाद की नौकरी पक्की हो गयी थी। वह हर दूसरे महीने बूढे़ मां-बाप को मनिआर्डर भेजने का नियम बना लिया।चिन्ताप्रसाद के घर हर दूसरे महीने मनिआर्डर की रकम लेकर डाकिया आता।डाकिया आसपास के गांवों में चिन्ताप्रसाद की जिक्र करता फिरता,कहता मुंषीलाल का बेटवा बहुत कमासूत हो गया है,ससुरा चिन्तवा षहर भाग तो कर गया, देखो हर दूसे महीना दो सौ का मनिआर्डर भेजता है।खैर अच्छा कर रहा है दो सौ पर दो रूपया तो अपनी भी कमाई हो जाती है।चिन्ताप्रसाद की कमाई को देखकर उसके रिष्तेदार ने अपने साले की बी.ए.पास लड़की से ब्याह करवा दिया। नौकरी पक्की होते ही चिन्ताप्रसाद सरकारी दमाद हो गया। पत्नी रजनी को भी षहर ले आया।वह पढ़ी लिखी थी उसे घर में बैठना अच्छा नही लगता था। वह चिन्ताप्रसाद से कहती क्यों जी मेरे लिये कही नौकरी ढूंढ दो मैं घर में बैठना नही चाहती।
चिन्ताप्रसाद-घर में काम कम है क्या?हमारी तनख्वाह और सुख-सुविधा कम पड़नी लगी है क्या ?
रजनी-देखो रोटी रसोई के अलावा और कौन सा काम है।सुन्दरप्रसाद स्कूल जाने लगा है,खूबी साल भर में स्कूल जाने लायक हो जायेगी।मेरा मन घर में नही लगता,मुझे कुछ करना है।बहुत बन संवर को आपको बहुत रिझा चुकी। दो बच्चे हो गये है।मन उबने लगा है रोज रोज एक ही काम तुम्हारी सेवा सुश्रुशा,आपको खुष करने के लिये षरीर के पोर-पोर हिलवा डालना।मैं भी इंसान हूं। मै सुहाग रात में ही बोल दी थी ना, मैं दोे बच्चों से ज्यादा पैदा नही करूंगी। बूढ़ा-बूढी तो चाहते है सूअर जैसे बच्चे पैदा करूं तो वो मुझसे नही होगा। हां आपको सन्तुश्ट रखने में कोई कोर-कसर नही छोड़ूंगी पर मुझे बच्चों के भविश्य के लिये कुछ करना है।
चिन्ताप्रसाद-करने को बहुत काम है।
रजनी-रोटी रसोई,कपड़ा धोना,झाड़ू पोछा बस यही ना ।
चिन्ताप्रसाद-और भी तुम बहुत काम करती हो।
रजनी-अच्छा तुम्हारी मालिष।ये कोई काम नहीं यह तो घरवाली का दायित्व बनता है। पति,सास-ससुर की सेवासुश्रुशा करें,पति को खुष रखे।घर परिवार का पूरा धन रखे।
चिन्ताप्रसाद-तुम तो रोज बिना मालिष किये मुझे सोने नही देती। कुछ औरते तो ऐसी है जो पति के सिर पर तेल रखना अपनी गुलामी का प्रतीक मानती है।तुम तो रोज मालिष करता हो।
रजनी-फुसलाओ ना । मुझे कुछ करना है,अपनी आय और बढ़ानी है,सुन्दर और खूबी बिटिया के अच्दे से अच्छे स्कूल में दाखिला करवाना है।
चिन्ताप्रसाद-होगा तुम चिन्ता ना करो,खाना खाओ आराम करो दिन भर थक जाती हो बच्चों के पीछे भाग-भागकर।खूबी स्कूल जाने लगेगी तब तुम्हारे काम के बारे में सोचेगें।
सालभर बाद रजनी जिद कर बैठी।चिन्ताप्रसाद हथियार डाल दिया।रजनी डाकघर की एजेण्ट बन गयी।पैसा जमा करवाने लगी।साथ ही घर में कैन्टीन भी खोल ली।अब क्या रजनी की तरकीब काम आ गयी ।कुछ ही बरसों में रूपया की बारिस होने लगी।सुन्दर प्रसाद एम.काम की परीक्षा पास करते ही बैंक में अफसर लग गया। अब तो रजनी के हौषले को जैसे पंख लग गये।सुन्दर प्रसाद की नौकरी लगते ही बहुत खरीददार आने लगे।मुुंह मांगी रकम गाड़ी सब देने को तैयार थे। रजनी को पुश्पा भा गयी। भा भी क्यों न जाती रूप-रंग यौवन भी था ही ऐसा सुन्दर प्रसाद पुश्पा के आगे कहीं नही लगता था। पुश्पा एम.ए. तक पढी थी। पुश्पा के पिता उसके लिये दूल्हा खरीदने के लिये मुंह मांगी रकम देने को भी तैयार थे।रजनी को एम.ए. तक पढी बहू के साथ मुंह मांगी कीमत भी मिल रही थी,बात पक्की हो गयी।
अच्छे मुहुर्त में सुन्दर प्रसाद और पुश्पा का ब्याह हो गया।पुश्पा ससुराल आयी। रजनी पुश्पा की सासु मां ने उसे चाभी का गुच्छा देते हुए बोली पुश्पा यह घर तुम्हारे हवाले कर रही हूं।
पुश्पा-सासु मां अभी से ये भार कैसे उठा सकूंगी।
रजनी-मेरी इकलौती बहू उठाना तो तुमको ही है।अरे जब मैं आयी थी तो चिन्ताप्रसाद की तरफ इषारा करके बोली इनके दर्जन भर भाई-बहनों को बोझा उठाना पड़ा था मुझे,तुम्हारे सामने तो वैसा संकट तो नही है।
चिन्ताप्रसाद झेंपते हुए बोले थाम लो,इकलौती बहू हो सब कुछ तुम्हारा हो तो है,बस मेरी खूबी का धन रखना।
पुश्पा-खूबी मेरी ननद नही छोटी बहन है,उनको तो पलको पर बिठाकर रखूंगी कहते हुए पुश्पा ने चाभी का गुच्छा थाम लिया था।चाभी के गुच्छे ने पुश्पा को ऐसे चक्रव्यूह में फंसा दिया जिसकी उसे कल्पना भी नहीं थी।रजनी ने घर की जिम्मेदारी से फुर्सत ले ली।बतौर पोस्ट आफिस बचत एजेण्ट खुद को व्यस्त कर ली।कैन्टीन की जिम्मेदारी अब पुश्पा के उपर थी।पुश्पा भी हार नही मानने वाली थी वह भी इकलौती बहू का ताज पाकर अपना सर्वस्व स्वाहा करने को तैयार थी। पुश्पा के ब्याह के साल भर बाद चिन्ताप्रसाद की नौकरी चली गयी।खूबी भागकर ब्याहकर ली। चिन्ताप्रसाद ने कैन्टीन का कारबार और बढ़ा लिया पर एक भी मजदूर नही रखा। सब काम पुश्पा को करना होता सौ ग्राहको की टिफिन का खाना बनाना बर्तन भाड़े साफ करना।चिन्ताप्रसाद रिक्षा में भर कर दोनो समय टिफिन पहुंचाने जाता। बेचारी कोल्हू का बैल हो गयी थी सुबह चार बजे उठता बाररह बजे सोने जाती।इसके बात सुन्दरप्रसाद की सेवा सुश्रुशा।सुन्दरप्रसाद हट्ठा-कटठा पहलवान जैसे था,पुश्पा तो इस घर में आते ही सूखना षुरू हो गयी थी अब तो सूखकर कांटे जैसी हो चली।सुन्दरप्रसाद की नजरों में वह अब एक मजदूर जैसी हो गयी थी पर रात भर वह पुश्पा को वेष्या की तरह निचोड़ना नही भूलता था।सुन्दरप्रसाद पुश्पा के साथ बाहर जाना अपानी तौहीनी समझता था।वह कार में अपने साथ कभी नहीं बिठाया,चाहे वह अपनी मां के साथ जा रहा हो या अकेले पुश्पा को पिछली सीट पर बिठाता जैसे पुश्पा उसकी घरवाली नही होकर घर की नौकरानी हो।समय के चक्र ने पुश्पा को भी दो बच्चों की मां बना दिया पर वह मायके का मुंह नही देखी।ब्याह के पन्द्रह साल बाद मां की तेरहनी में रजनी को मायके जाने की इजाजत मिली थी और तेरहवी बितते ही वापस चले आने की हिदायत भी इकलौती बहू को।पुश्पा समर्पित भाव से घर-मंदिर और पतिदेव की उपासना में लगी रहती। वह स्वयं कभी भी इकलौती बहू की सीमा नही तोड़ी जबकि उसके सास-ससुर ही नही पति ने उसे एक नौकरानी से अधिक कभी नही समझा।
पुश्पा के तन से उपजे पसीने और आंखों से पसीजे आंसू पीकरे चिन्ता प्रसाद का कैन्टीन का व्यवसाय खूबफलफूल रहा था।कैन्टीन के व्यवसाय में उसका नाम काफी उपर पहुंच गया था खैर पहुंचता भी क्यों नहीं सब काम पुश्पा ही जो करती, खाना भी इतना अच्छा बनाती कि अंगुलिया चाटते रह जाये।थोक में डिब्बे कभ् मांग बढ़ने लगी,ग्राहक कई गुना बढ़ गये। चिन्ताप्रसाद को टिफिन पहुंचाने में दिक्कत महसूस होने लगी।कैन्टीन के बढ़ते हुए व्यवसाय को देखकर रजनी ने अपना काम धीरे-धीरे घटाने लगी चिन्ताप्रसाद की चिन्ता कम करने के लिये।रजनी डिब्बा भरवाने में पुश्पा की तनिक मदद करने लगी।धीरे-धीरे रजनी ने पोस्ट आफिस बचत का काम एकदम बन्द कर दी और कैन्टीन की गद्छी संभाल ली। चिन्ताप्रसाद का काम पहले भी डिब्बा पहुंचाना और सामान लाना था।रजनी गद्दी के साथ सामान खरीदने में भी चिन्ताप्रसाद का सयोग करने लगी परन्तु पुश्पा का काम बढ़ता चला गया।ससुराल में उसे कभी किसी ने इंसान नही समझा।बस उसे बैल की तरह दिन रात जोतते रहे।पुश्पा ससुराल और पति की कभी नमूसी नही होने दी। इकलौती बहू होने के नाते वह ससुराल को मंदिर समझकर सेवा कार्य में लगी रहती थी।
कैन्टीन का व्यवसाय प्रगति पर था अचानक चिन्ताप्रसाद का गला बन्द होने लगा। डाक्टर को दिखाया तो डाक्टर बोले गुटखा तम्बाकू खाने से जबड़े जाम हो गये है,सब तरह की नषा छोड़ना पड़ेगा। मरता क्या ना करता चिन्ता प्रसाद ने सब त्याग दिया पर रत्ती भी फायदा नही हुआ।अन्तोगत्वा पता लगा कैसर आखिरी स्टेज पर है और एक कैंसर दिन चिन्ता प्रसाद को लील गया।अब रजनी के सिर पर कैन्टीन के व्यवसाय को संभालने की जिम्मेदारी पूरी तरह से आ गयी।लाखा कोषिषों के बाद भी धंधा धीरे-धीरे मंदा पड़ने लगा।
उधर सुन्दर प्रसाद की नौकरी में भूचाल की स्थिति पैदा हो गयी,उसे किसी घोटाले के कारण नौकरी से निकाल दिया गया। कई महीनो तक नियति घर से दफतर जाने वाले समय निकलता वापस आने वाले समय वापस आता।आर्थिक स्थिति चरमराने लगी थी।एक दिन कैन्टीन का सामान खरीने के लिये
बाजार जाने की तैयारी कर रही थी कि इसी बीच सुन्दरप्रसाद आ गया संयोग से महीने का पहला सप्ताह था।रजनी सुन्दरप्रसाद से बोला बेटी तेरी मदद चाहिये।
सुन्दरप्रसाद-मां चलो कहा चलना है।
रजनी-बाजार ।
सुन्दरप्रसाद-क्या खरीदना है।
रजनी-अरे कैटीन और घर के लिये राषन लेना है।
सुन्दरप्रसाद-चलो मां गाड़ी अभी बाहर खड़ी है गैरेज में नही खड़ी किया हूं चलो।
रजनी-बेटा कुछ रूपये की मदद चाहिये।
सुन्दरप्रसाद-वह तो नही है।
रजनी-तनख्वाह नही मिली क्या ?
सुन्दरप्रसाद-मिली थी मां पर कोई एकाउण्ट हैंगकर तीन महीने से पैसे निकाल ले रहा है,जबकि वह सस्पेंट चल रहा था।
रजनी-क्या,मुसीबत पर मुसीबत।
सुन्दरप्रसाद-मां चिन्ता ना करो सब ठीक हो जायेगा।
रजनी सुन्दरप्रसाद के साथ गयी आधी अधूरी सामान लेकर आयी पर इनते सामान से कैन्टीन चला पाना कठिन था। चिन्ताप्रसाद के मरते ही परिवार पर मुसीबत के पहाड़ गिरने लगे थे।पुश्पा को देखकर रजनी की हिम्मत बढ़ जाती वह हार मानने को तैयार न था।साल बित गया तब जाकर रजनी को पता चला कि बेटे की नौकरी नही रही।सुन्दरप्रसाद टयूषन पढ़ाने का काम करने लगा पर वह कैन्टीन के काम से नही जुड़ा चाहता तो पैतृक व्यवसाय से जुड़कर अच्छा कारोबार कर सकता था पर कहते हैं ना विनाष काले विपरीत बुद्धि वही हुई।टयूषन की कमाई से सुन्दरप्रसाद अपना खर्च निाकल लेता बस।सुन्दरप्रसाद की पैतृक जमे जमाये व्यवसाय में अरूचि के कारण थक हारकर कैन्टीन का धंधा रजनी को बन्द करना पड़ा और घर का कैंटीन वाला एरिया किराये पर चढ़ गया।इससे घर कि आर्थिक स्थिति में कोई चमत्कारिक सुधार तो नही हुआ पर चूल्हा गरम होने का इन्तजाम तो हो गया था।
पुश्पा को दिन पर दिन घर की बिगड़ती आर्थिक स्थिति बेचैन किये जा रही थी।एक दिन वह हिम्मत कर सुन्दरप्रसाद से सविनय बोली क्यों जी हम नौकरी कर ले क्या ?
सुन्दरप्रसाद-मेरी नौकरी चली गयी तो तू मुझे ताना दे रही है।
पुश्पा सुन्दरप्रसाद का पांव पकड़कर बोली कैसी बात कर रहे है।इस घर का दुख-सुख मेरा दुख-सुख है। क्या मैं इस घर से अलग हूं।मेरे लिये तो यह घर मंदिर है है और घर के लोग देवता।
सुन्दरप्रसाद-रहने दे मेरा मजाक उ़ड़ाने को।
पुश्पा-आपका मजाक उड़ाकर मुझे नरक का भागी नही बनना है।मैं तो आपका साथ देना चाहता हूं हाथ बटाना चाहती हूं,घर की तरक्की में अपने को स्वाहा करना चाहता हूं ।
सुन्दरप्रसाद- रहने दे स्वाहा करने को बहुत कर लिया तुमने स्वाहा। तुमको पेट भर खाने को तो मिल रहा है ना।
पुश्पा-पेट तो कुत्ते भी भर लेते है।
सुन्दरप्रसाद-कहा तुमको कलेक्टर की नौकरी मिल रही है।
पुश्पा-भले ही कलेक्टर की नौकरी नही मिले स्कूल टीचर की तो मिल सकती है।
सुन्दरप्रसाद-कर ली तुमने नौकरी जाओ घर के काम में मन लगाओ। ऐसे ही ऐरे-गैरो को नौकरी मिलती रही तो तुम अब तक कलेक्टर बन गयी होती।मैं तो कमिष्नर होता,कलेक्टर कमिष्नर एक घर में रहते,दो लालबत्ती की कारें घर के सामने खड़ी,चल हट तुम्हारी जगह चूल्ह चैके में है,तुम वही तक ठीक हो।
पुश्पा ने हिम्मत दिखाई आज उसने पत्नी धर्म को तोड़ दिया। वह तमतमाते हुए बोली घरकी नौकरानी मुझे आपने बनाया है,मुण्े भी मौका मिला होता तो मैं भी कुछ बनकर दिखा सकती थी। दुर्भाग्यवष मां-बाप ब्याह की के उतावलेपन में मेरे भविश्य का क्तल करवा दिया आपके हाथों मिस्टर सुन्दरप्रसाद।दुनिा के सामने तो नौकरानी की तरह रखे बंद कमरे में मेरी षरीर से वैसे ही खेलते रहे जैसे ष्वान हड्डी से खेलता है। ये दोनो बच्चे मैं अकेले नही पैदा की हूं।साथ आने जाने में आपकी महिमा मण्डित होता है,देखना मैं नौकरी करके दिखाउंगी।
घर में षोर सुनकर पुश्पा आ धमकी।घर की नौकरानी यानि इकलौती बहू को खरखोटी सुनायी पर पुश्पा के जबान पर लटका ताला आज अनाषस टूट गया था।वह अपनी बात बेधड़क रखे जा रही थी। उसकी हिम्मतको देखकर सुन्दरप्रसाद के होष उड़ चुके थे।पुश्पा बोली सांरी माय डियर हसबैण्ड,आई मैनेज माई ओन प्रोबल्म एण्ड गिभ बेटर फयूचर टू माई किडस् कहते हुए वह सासूमां से आंखों में आंसू लिये अपने मन की बात कह सुनायी।
रजनी-तुमको नौकरी करनी है।
पुश्पा-हां सासूमां बच्चों के अच्छे भविश्य के लिये। मैंनेजर साहब तो फेल हो गया। इनकी सारी मैनेजरियल स्किल मुझे नौकरानी बनाये रखने में निकलती रही और खुद फेल हो गये।दो साल से हाथ पर हाथ धरे बैठे है।ऐसे कैसे काम चलेगा।बच्चों के स्कूल की फीस जमा करनी है।बाबूजी की दी छत है वरना क्या हाल होता ऐसे पति के साथ।
रजनी-पुश्पा तू इस घर की इकलौती बहू है,अब तक जो हुआ भूल जाओ।तुमको भी अपनी किस्मत अजमाने का मौका मिलना चाहिये।सुन्दरप्रसाद के पिता भी इस दुनिया में रहे और ना ही तेरे मां-बाप।मैं अपनी आंखों के सामने तुम लोगों को सम्पन्न देखना चाहती हूं।बहू तुम्हें भी अपना भाग्य अजमाने का मौंका है,मेरी आंखों के सामने तुम्हारी मनोकामना पूरी हो जाती तो मैं भी चैन से मर सकूं।रजनी की ऐसी बात सुनकर पुश्पा रजनी का पांव पकड़कर बोली सासूंमां मरने की बात ना करो।
रजनी-पुश्पा के सिर पर हाथ रखते हुए बोली बहू तुम्हारी काबिलियत को हम लोगों ने कोई अहमियत नही दी। तुम कैन्टीन की एक बेजुबान अवैतनिक कर्मचारी बनी रही। तुमने कभी भी अपने लिये कुछ नही मांगा। आज तुमने मांगा भी है तो घर परिवार के लिये।तुम अपनी किस्मत अजमा सकती हो बहू मेरी आर्षीवाद तुम्हारे साथ है। हो सकता है तुम्हारे प्रयास से घर की आर्थिक स्थिति में सुधार आ जाये।काष तुम्हारी काबिलियत को पहले समझ लिया गया होता। इस परिवार के सुन्दरप्रसाद और खूबी को काबिल समझते रहे । दोनो ने आपनी काबिलियत दिखा दिया,पुश्पा जब से तुम इस घर में आयी हो अग्नि परीक्षा ही दे रही हो । अब तुम खुद अग्नि परीक्षा देने जा रही हो,भगवान तुम्हें सफलता दे।
पुश्पा-सासूंमां मैंने बहुत लगन से पढ़ाई पूरी की हूं। मां-बाप दादा-दादी ही नहीं परूी कुटुम्ब की लाडली थी पर नसीब ने धोखा दे दिया और मैंनेजर साहब और प्रसाद परिवार की नौकरानी हो गयी।दुर्भाग्यवष इसके लिये मेेरे बाप ने अपनी इकलौती बेटी के लिये अपने जीवन भर की कमाई कुर्बान कर दी और खुद कंगाल हो गयेेेेेेेेेेेेेेेेेेेेे।पुश्पा सुन्दरप्रसाद की ओर मुखातिब होते हुए बोली वाह रे मैंनेजर साहब क्या सिला दिया आपने धर्मपत्नी को रात में वेष्या और दिन में नौकरानी बना कर रख दिया। आपने जो भी दुव्र्यवहार मेरे साथ किया मैंने उसे भी स्वीकारा । आपकी उन्नति के लिये हमेषा प्रार्थना करती रहती हूं।
रजनी-अभी बहुत देर नही हुई है,यदि तुममें हुनर है तो दिखा सकती है प्रसाद परिवार के भले के लिये इकलौती बहू होने के नाते।
पुश्पा-हां सासूमां जरूर दिखाउंगी। प्रसाद परिवार ही मेरा अस्तित्व है,उसके हित में पहले दर्द सही अब हुनर का उपयोग भी क्यांेकि प्रसाद परिवार के हुनर को जमाना ने देख लिया है।
रजनी-बहू बात करने का नही कर दिखाने का वक्त है।प्रसाद परिवार जर्जर कष्ती को अब तुम्हारा ही भरोसा है।
पुश्पा-हां सासुमां कहते हुए,आंसू पोछते हुए वह सीधे अन्दर गयी अपने साथ मायके से लायी सन्दूक उठाकर आंगन में पटकी दी।
रजनी-पुश्पा सन्दूक क्यों तोड़ रही हो।
पुश्पा-तोड़ नही रही हूं सासूमां इसी सन्दूक में मेरे सपने सजाने का साजो सामान पड़ा है।
रजनी-क्या ?
पुश्पा-जंग खायी फाईल हवा में लहराते हुए बोली मिल गया वो साजो सामान।
रजनी-इतना बावली क्यों हो रही है।
पुश्पा-मुझे हुनर दिखाने का मौका जो दिया है प्रसाद परिवार की मुखिया ने।
कुछ ही पलों में पुश्पा की जीवन षैली एकदम बदल गयी।वह दूसरे दिन जल्दी उठी,घर का झाड़ू पोंछा कर खुद स्नान की ।पूजा घर में स्थापित देवी देवताओं के साथ अपने स्वर्गीय ससुर चिन्ताप्रसाद की प्रज्ञा,षील और करूणा के प्रतीक बुद्ध भगवान की तस्वीर रखकर मौन लम्बी पूजा अर्चना की। पूजा अर्चना के बाद पति सुन्दरप्रसाद और सासुमां का चरण स्पर्ष कर वह घर से अकेले निकल पड़ी। पुश्पा रोज सुबह घर से ऐसे ही निकलती और षाम ढलते वापस आ जाती। बड़ी आस्था और श्रद्वा के साथ घर का काम कर रजनी उखड़ती सांस को सहारा देती,पति सुन्दरप्रसाद को ढ़ाड़स बंधाती।अन्ततःपुश्पा को एक कालेज में हिन्दी प्राध्यापक की नौकरी मिल गयी। धीरे-धीरे पुश्पा के प्रयास से प्रसाद परिवार में सुख-षान्ति और वैभव स्थापित हो गया। पति सुन्दरप्रसाद और रजनी के लिये वही पुश्पा जिसकी कद्र नौकरानी जैसी भी नही थी आत्मसम्मान बन गयी।रजनी स्वाभिमान से कहती फिरती पुश्पा प्रसाद परिवार की इकलौती बहू जर्जर कष्ती को स्वर्णिम बना दिया। बहू भले ही इकलौती हो पर पुश्पा वही पुश्पा जो फूटी आंख भी नहीं भाती थी।

डा.नन्दलाल भारती

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...