TOP BANNER

TOPBANNER







flower



mar 2017
कविताएँ 

आलेख

गज़ल

मुक्तक

हाइकु

कहानी





संस्थापिका एवं प्रधान सम्पादिका--- डॉ० श्रीमती तारा सिंह
सम्पादकीय कार्यालय--- --- 1502 सी क्वीन हेरिटेज़,प्लॉट—6, सेक्टर—
18, सानपाड़ा, नवी मुम्बई---400705
Email :-- swargvibha@gmail.com
(m) :--- +919322991198

flower5

rosebloom





 

 

 

अंक: दिसम्बर २०१७


LOGO



redrose



flowers1



tulips










flower3



valrose

 

असमा से महताब उतरे --धर्मेन्द्र मिश्र

 

1-असमा से महताब उतरे
आप के पहलु में छिप जाये ,
आप हो ही इतने खूबसूरत
की चाँद भी शरमा जाये .

2-गरीब करे चित्कार कोई न सुने उसकी पुकार ,
बड़वाग्नि तो पहले से लगी है
पेट में अब तो अहले -ए-सियासत ने
घोल दिया है फिजाओं में भी आग .

3-खिलकत के बोझ तले दबी थी जिंदगी
,थोड़ा आराम फरमा आउँ.
मद्दत से इंतजार था ,अभी -अभी
राख के ढेर से उठी है ये जिंदगी

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...