TOP BANNER

TOPBANNER







flower



july2015
कविताएँ 

आलेख

गज़ल

गीत

मुक्तक

हाइकु

कहानी





संस्थापिका एवं प्रधान सम्पादिका--- डॉ० श्रीमती तारा सिंह
सम्पादकीय कार्यालय--- --- 1502 सी क्वीन हेरिटेज़,प्लॉट—6, सेक्टर—
18, सानपाड़ा, नवी मुम्बई---400705
Email :-- swargvibha@gmail.com
(m) :--- +919322991198

flower5

rosebloom





 

पर्यावरण--डॉ० श्रीमती तारा सिंह

 

प्रदूषण की समस्या से भारत ही नहीं,आज पूरा विश्व चिंतित है । प्रदूषण का अर्थ है, वायुमम्डल का प्रदूषित होना ;प्रकृति का वातावरण जो अपने स्वभाव से पूर्ण रूप से स्वच्छ और शुद्ध है, जो धरती के हर जीव के जीदा रहने के लिए बना है,लेकिन किन्हीं कारणों से आज यह वायुमंडल इतना दूषित हो चुका है कि इससे अनेक प्रकार के रोग जनम लेने लगे हैं । परिणाम आज मानव जाति नहीं, बल्कि सभी जीव किन्हीं न किन्हीं रोगों से ग्रसित होकर अकाल मृत्यु को प्राप्त कर रहे हैं । वैग्यानिकों ने इन बीमारियों में से कुछ के नाम बताये हैं—चर्मरोग, श्वास रोग, खाँसी, जुकाम ,दमा, क्षय ,फ़ेफ़ड़ों का कैंसर आदि । इसके अतिरिक्त भी अनेकों बीमारियाँ हो रही हैं,कुछ के तो विश्लेषण और नामकरण अभी बाकी है । विश्व के बड़े-बड़े शहरों की तरह ,भारत के मुम्बई, कलकत्ता, दिल्ली महानगर , इस तरह के रोगों से ज्यादा प्रभावित हैं । अन्य छोटे-छोटे शहरों में भी औद्योगिकरण की प्रक्रिया बड़ी तेजी से फ़ैल रही है ,जिसके कारण ये भी अब अछूते नहीं रहे ।
प्रदूषित पर्यावरण के लिए, जनसंख्या में अप्रत्याशित वृद्धि, गरीबी तथा शिक्षा का अभाव भी कम दायी नहीं है ; साथ ही आधुनिक राष्ट्र- निर्माण के लिए धुरुल्ले से वन का कटाव, प्रकृति सम्पदा का विघटन, बढ़ता शहरीकरण, सबसे बड़ी और गंभीर समस्या है । शिक्षा का अभाव, अच्छाई- बुराई का फ़र्क समझने नहीं देता ;जिसके कारण राष्ट्र का आर्थिक और भौगोलिक ,दोनों विकास रूक जाता है । वनों का दिनोंदिन विलुप्त होना, सूखा को निमंत्रण देना है ; जब कि हमारा देश, कृषि प्रधान है । यहाँ सिंचाई की व्यवस्था नहीं के बराबर है । किसान बारिश के लिये ऊपर आकाश पर नजरें गड़ाये जीता है । समयानुकूल बारिश हुई, तब तो सब ठीक , अन्यथा, बाहर अनाज भेजने की कल्पना छोड़िये, देश की भूख मिटाने के लिए हमें विश्व के अन्य देशों से अनाज मँगाना पड़ जाता है ।
आज विश्व का हर देश परमाणु विस्फ़ोट में, एक दूसरे से आगे निकलने की होड़ में, ज्यादा से ज्यादा, परीक्षण कर रहे हैं । प्रदूषण का रह सबसे बड़ा और घातक कारण है, उनमें से उठने वाली गैसें वहीं तक सीमित नहीं रहतीं ;बल्कि देश से विदेश तक फ़ैल जाती हैं । इन विस्फ़ोरणों ने ऋतु-चक्र क्रम में भी बाधा डालना शुरू कर दिया है | औद्योगिक इकाइयों द्वारा, गंदे जल की सीधी निकासी नदियों में धरल्ले से करना, मरे हुए जानवर, अधजली लाशें, नदियों में फ़ेंकने से ,नदियों का जल और प्रदूषित हो रहा है । स्वर्ग से उतरकर, धरा पर बहनेवाली, भगीरथ की गंगा, जिसके अमृत जल को हाथ में लेकर हम जीने-मरने की कसम खाते है, आज हथेली में लेने लायक भी नहीं है । गंगा के किनारे बसे लोगों द्वारा ही नहीं,दूर –दराज से भी आकर लोग अधजले लाशों को गंगा में प्रवाह करते हैं , जिसके सड़ने से गंगा प्रदूषित हो रही है । हालात इतनी गंभीर है कि आज गंगा के स्वच्छ्ता अभियान में अंश ग्रहण करने वाले स्वयंसेवी दो दिनों बाद ही थककर घर बैठ जाते हैं, कारण पानी कम, गंदगी अधिक,कहाँ से शुरू करें और कहाँ खतम, उन्हें समझ में नहीं आती है ।
डेवेलपमेन्ट अल्टरनेटिव्स के सहयोग से तैयार किया , रिपोर्ट बताता है कि हमारे देश की माटी में क्षारीय तत्व इतनी तेजी से बढ़ रहा है और बंजर जमीनों का दायरा इतना विस्तृत हो रहा है कि देश का ४५% जमीन कुछ उपजाने लायक ही नहीं रहा, और अगर कुछ उपज भी गया, तो वह फ़सल खाने लायक नहीं रहता है । हाल के केन्द्रीय प्रदूषण बोर्ड और आल इन्डिया मेडिकल साइन्स के ज्वाइन्ट सर्वे के मुताबिक देश के पचास शहरों में रहने वाले लोगों में से लगभग ग्यारह करोड़ लोग धूल और धुएँ से उत्पन्न रोगों के शिकार हैं । इसका कारण तेजी से बढ़ रहा, परिवहन है, जिसे सरकार द्वारा नियंत्रण करने की बात अभी तक परिकल्पना में है । यही हाल पानी का है --- पानी की समस्या का प्रमुख कारण हमारे देश में अनियमित तरीके से पानी की आपूर्ति (सप्लाई ) है । कमजोर निकासी, उद्योंगों द्वारा मनमानी दोहन, बड़े- बड़े फ़ैक्टरियों द्वारा भू – जल में रसायन छोड़ना, तथा खेतों में किसान द्वारा, बेतहासा केमिकल और फ़र्टिलाइजर का व्यवहार, प्रदूषण के लिए प्रमुख रूप से जिम्मेदार हैं ।
यही कारण है, भारत दुनिया का 17 वाँ बहुविविधता वाला देश होकर भी , यहाँ प्राकृतिक विविधता का 10% प्रतिशत हिस्सा, खतरे के करीब पहुँच चुका है । अगर यही हाल रहा, तो
जल्द ही ये सभी विविधताएँ लुप्त हो जायेंगी । दुख की बात है , आजादी के बाद विकास का जो माडल हमने चुना, उससे सभी तबके के लोग लाभान्वित हो रहे हैं ; ऐसी बात नहीं है । इससे सिर्फ़ और सिर्फ़ समाज के ऊपरी परत के लोग लाभान्वित हो रहे हैं । परिणाम ,आज देश की तीन चौथाई आबादी के पास दो जून की रोटी के लाले पड़े हुए हैं और दूसरी ओर उद्योगपति सोने के महल और चाँदी का पलंग बनवा रहे हैं । गाँव में जीने की मूलभूत सुविधा तथा पेट की आग बुझाने के कारगर उपाय नहीं होने के कारण, लोग शहर की ओर पलायन कर रहे हैं और शहर आकर पैसे के अभाव में, जैसे-तैसे, जहाँ-तहाँ झुग्गी- झोपड़ी बनाकर तथा उनका खुली जगहों पर शौच करना, पोलीथीन ( जो कि कभी खुद से नष्ट नहीं होता है ) का बेतहाशा व्यवहार, देश के आब-वो-हवा को और दूषित कर रहा है । आज देश की आबादी का 20 से 40 प्रतिशत लोग झुग्गी-झोपड़ियों में रहते हैं । उन्हें मूलभूत सुविधाएँ देकर, गाँवों से पलायन कर रहे आबादी को गाँव में ही जीने की व्यवस्था कर इस पलायन को रोका जा सकता है । मगर दुख की बात तो यह है कि हमारी सरकार, देश में बढ़ते प्रदूषण से चिंतित तो है पर उनके पास इससे निबटने के लिए ऐच्छिक कोई योजना नहीं है ।
आज देश को, क्षेत्रवाद और जातिवाद की घिनौनी राजनीति से उठकर, मानवतावाद पर सोचना होगा और इसके लिए पर्यावरण को स्वच्छ और साफ़ कैसे रखा जा सकता है, देश के चारो कोनों को मिल-जुलकर काम करना होगा । पृथ्वी पर प्राकृतिक आपदाएँ जन्म लेकर, प्रकृति की विकरालता को न बढ़ायें; इसका ख्याल रखना होगा , नहीं तो आने वाली पीढ़ी को इसकी काली छाया निगल जायगी । हम जानते हैं, हमें जन्म देने वाला ईश्वर बड़ा दयालु है । यदि हम आज से सुधर जाने की सपथ ले लें तो अब तक जो हमने भूल की है, उसे वह माफ़ कर देगा, और आगे यह देश फ़िर से स्वर्गखंड कहलायेगा ।
इन सब तथ्यों के आलोक में 5 जून 1977 को सारे विश्व में पर्यावरण दिवस मनाया गया । निश्चय किया गया कि ऐसे उपाय ढ़ूँढ़े जायें ,जिनसे प्रदूषण से होने वाले विनाश से बचा जाये । इन सुझावों में एक सुझाव यह था कि कल-कारखानों को जन आबादी वाले इलाके से दूर खुले वातावरण में ले जाना चाहिये ,तथा नगरों के आस-पास जितना संभव हो,वृक्ष लगाना चाहिये । कल-कारखानों से निकले कचरे,तथा प्रदूषित जल को ठिकाने लगाने का उपाय खोजना चाहिये । इसे फ़िर से साफ़ कर शुद्ध जल में परिवर्तित करना चाहिये ; तभी वायुमंडल प्रदूषण –मुक्त रहेगा ,अन्यथा विनाश अवश्यमभावी है ।
-----------------------------------------------------

 

 

HTML Comment Box is loading comments...