TOP BANNER

TOPBANNER










 

 

छले जाते रहे सदा बरसों से जहाँ थे --मँजु शर्मा

 

 

छले जाते रहे सदा बरसों से जहाँ थे वहीं हैं आज भी खड़े
नेताओं का स्वप्रेम था हावी ,घिसट कर चन्द कदम ही हैं बढें
बहुत हुई काहिलता, अब दुनियां जीतने की ठानली हमने
सहते सहते जुल्म भी कीर्तिमान मतदान का स्थापित करने चल पड़े

 


--- मँजु शर्मा

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...