स्मृति लौट आई है —डॉ. श्रीमती तारा सिंह

Facebook
Google+
http://swargvibha.in/newsite/2019/01/05/%e0%a4%b8%e0%a5%8d%e0%a4%ae%e0%a5%83%e0%a4%a4%e0%a4%bf-%e0%a4%b2%e0%a5%8c%e0%a4%9f-%e0%a4%86%e0%a4%88-%e0%a4%b9%e0%a5%88-%e0%a4%a1%e0%a5%89-%e0%a4%b6%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a5%80%e0%a4%ae%e0%a4%a4/
Twitter
LinkedIn

भाग्य के विश्रृंखल पवन ने , माधव की जिंदगी के हिसाब के पन्नों को, जगत के आँचल पर, जब तितर-वितर कर दिया , वह टूट गया | स्नेह छवि की पूजा के लिए नित्य नए-नए उपकरण जुटाने वाला माधव ,मन तूलिका को ह्रदय-रक्त में डुबो-डुबोकर , जड़ होकर बाह्य दृश्य की अनेक आकृतियों को विकृतियों में स्थायी रूप से बदलने लगा | बीत रहे रजनी की काली छाया में अपनी दुःख-गाथा को अतीत की गर्वशाली निशा की सुख-कथा संग मिलाकर कुछ कहने लगा | उसके ह्रदय की अव्यक्त ध्वनि सार्थक हो, उसने स्मृति को कलेजा फाड़ देने वाली करुण आवाज से पुकारा , पागलों की तरह चिल्लाकर कहा —- स्मृति आज मुझे तुम्हारी जरूरत है, तुम लौट आओ, मेरे पास | मैं अपनी जिंदगी के पन्ने-पन्ने को उलट रहा हूँ , हर नजर भी आखों के सामने नाच रहा है, लेकिन जब हिसाब जोड़ता हूँ , हर बार मात खा जाता हूँ ; अब तुम्हारे बगैर इसे कौन सुलझाएगा ?
एक दिन स्मृति काँपती हुई माधव के पास आकर खड़ी हुई | माधव का स्मृति से सामना लगभग 10 साल बाद हुआ था | अब वह बूढी हो चुकी थी , नजरें मोटी और दिमाग कमजोर हो गई थी ; उसने माधव द्वारा बनाए चित्र को बहुत देर निहारा , फिर बोली —– माधव ! यह क्या, तुमने सुंदर-सुंदर इन आकृतियों को काला रंग डालकर बदरंग क्यों कर दिया , पहले वाला ही अच्छा था | इसे उसी तरह छोड़ दो , इन काले रंगों को हटा दो |
स्मृति की बात सुनकर माधव का मुख भयानक हो उठा, उसने रोते हुए कहा —मेरी जिंदगी का हिसाब जिन पन्नों में था , वह खो गया | जवानी , कुछ याद है, ज्यादा भूल गया | तुमको उन पन्नों को बातों को याद कराने बुलाया है | मैं जानता हूँ , ये आकृतियाँ कुरूप हो गई हैं , लेकिन एक चित्रकार जब चित्र बनाने बैठता है, तब वर्त्तमान को अधिक पसंद करता है | सूरज की तपती धूप में झुलसता आदमी हिमानी मंडित उपत्यका में वसंत की फूली हुई वल्लरी पर मध्याह्न का आतप अपनी सुखद कांति बरसा रहा है ; ऐसा न कह सकता है, न बना सकता है | स्मृति ! समाज से डरो नहीं, अत्याचारी समाज, पाप शब्द कानों पर हाथ रखकर चिल्लाता है , वह पाप शब्द दूसरों को सुनाई पड़ता है , जबकि वह स्वयं नहीं सुनता | ऐसे लोग समाज को भ्रान्ति में रखना चाहते हैं | संपन्न अवस्था के विकास का रंग ,अभाव के रंग को नहीं सह सकता |
स्मृति का जब ध्यान टूटा , देखी —सचमुच माधव, उसके आश्रम में आश्रय माँग रहा था | अपने जीवन के लघुदीप को अनंत की धारा में बहाने आतुर बैठा, माधव, जीवन का हिसाब ही तो माँगता है | अपनों और संसार के विश्वासघात की ठोकरों ने इसे विक्षिप्त बना दिया है | इसके मानसिक विप्लवों में मेरी सहायता की इसे सख्त जरूरत है |
स्मृति ने माधव से नम्रतापूर्वक कहा— इसकी चिंता तुम छोड़ दो , तुमने बुरे कामों के लिए अपने त्याग, तपस्या की पूँजी को नहीं उड़ाया , बल्कि इससे कुल की कृति फैली है |
माधव, अत्यंत विनति भरे स्वर में कहा— माना कि तुम्हारी बात ही सही है , लेकिन हिसाब मिलता क्यों नहीं है ? जब भी हिसाब लेकर बैठता हूँ | लोगों से सूद की एक कौड़ी नहीं छोड़ने वाला माधव , आज उसी हिसाब को करने में , कुछ याद आता है, ज्यादा भूल जाता है, तब थक-हार कर रोने क्यों बैठ जाता है ?
स्मृति रुंधे हुए कंठ से गद-गद होकर बोली — वो इसलिए कि वहाँ रोटी आकर तुम्हारे समक्ष खड़ी रहती थी, यहाँ अपने खड़े रहते हैं और अपनों को दिया ऋण ,आदमी कभी लौटा नहीं पाया |
माधव ने सजल और दीनता भरी आँखों से स्मृति को देखा , और हाथ जोड़कर कहा—- इसलिए मैंने तुमको बुलाया है, मेरा हिसाब तुम्हारे सिवा कोई नहीं कर सकता | सच मानो स्मृति , मैं अपनी जिंदगी के हिसाब के उन पन्नों को जिसे मैंने अपने मन-चिथड़ों में बांधकर जग में रहकर भी जगत से दूर, सुदूर वन के एक कोने में अपनी छाती से लगाए एक कंगाल की तरह बैठा रहता हूँ | लोग मुझे पागल समझकर रास्ते बदल लेते हैं , कहते हैं — जब से स्मृति इससे दूर भाग गई है , तब से यह पागल हो गया है | कोई पूछता तक नहीं कि इस पुतले में मैंने क्या छिपा रक्खा है ?
स्मृति ने देखा— उसके मन का निश्चिन्त भाव और शारीर का बल धीरे-धीरे क्षीण होता जा रहा है | वह भी घर की चिंता नहीं करता , बल्कि भुलाने का प्रयत्न करता है | पहले उसकी त्याग-तपस्या , उसके जीवन-यग्य की आहुति का एकमात्र वृक्ष था जो उसके स्नेह की क्यारी में अकेली खड़ी थी | किन्तु अब उस क्यारी में कुछ अनचाहे , कटीले घास उग आये हैं , जो माधव को चलने नहीं देते ; उसके पाँव के तलवे को लहूलुहान कर देते हैं |
स्मृति ने माधव के ह्रदय वेदना को कम करने के लिए कहा— पिता का जीवन ,तप का जीवन होता है | लोकमत इसके विपरीत कुछ नहीं देख सकता; जीवन की सार्थकता भी इसी पर टिकी है, माधव स्मृति की सलाह से रंज हो बोला— तुम क्या चाहती हो कि मैं जीवन भर तपस्वी बनकर रहूँ , रुखा-सूखा खाऊँ , जमीं पर सोऊँ, मोटा-झोटा पहनूँ , घर से दूर , कहीं और चला जाऊँ , यह मुझसे नहीं होगा | आज तक तपस्वी जीवन भी तो बिताया; खुद खाली पेट रहकर सबको रोटी खिलाया | रात के बारह बजे घर लौटा ; सुबह अँधेरे मुख रोटी की खोज में निकल गया | छ: महीने तक बीमार पड़ा , दवाइयाँ नहीं लीं , डॉ० नहीं दिखाया और नीम का काढ़ा पीता रहा | बदन पर चिथड़े भी नसीब नहीं थे , फिर खुश था , यह सोचकर , कि हमारा जीवन-यग्य पैसे के अभाव में भी पूर्णता की ओर जा रहा है | क्या इस संसार में पिता ही एकमात्र धर्म का ठीकेदार है , संतान को धर्म से कुछ लेना-देना नहीं ? परिस्थिति का यथार्थ ज्ञान होते ही स्मृति ने अपना कर्तव्य तय कर लिया कि ‘’ मैं माधव से दूर रहकर माधव की आत्मरक्षा नहीं कर सकती | कितना अन्याय है कि घर में दीपक तो जलते हैं , मगर माधव रोशनी को तरसता है ? आत्मशक्ति के इस कल्पनातीत उदाहरण ने उसकी भौतिक बुद्धि को कैसे आक्रांत कर दिया ? इस निश्चल धैर्य को, ईश्वर-निष्ठा का प्रसाद मानकर, स्मृति अपने मन-मंदिर में, सेवा का पुतला माधव को श्रद्धा भरी आँखों से देखी , उसे लगा कि कोई दिव्य-दर्शन कर रही है | इसी मानसिक पराभव की दशा में उसके अंत:करण से निकला— ईश्वर ! मुझे प्रकाश दो ; मुझे उबारो और रोती हुई , उसने माधव के त्याग और सेवा की जिन शब्दों में सराहना की , माधव के अंत:करण की सारी मलीनाताएं धुलकर निर्मल हो गईं | माधव के मन में प्रकाश आ गया ; उसकी सारी चिंताएँ -शंकाएँ अंधकार की भाँति मिट गईं | स्मृति का कल्पना-चित्र उसकी आँखों के सामने खड़ा हो गया |’
माधव ने सिर उठाया , तो उसकी आँखों में नशा था | वह नशा, जिसमें आलस्य नहीं स्फूर्ति थी , लालिमा नहीं, दीप्ति थी ; विस्मृति नहीं जागृति थी | उसकी आत्मा इसके पहले, कभी इतनी उदार, इतना विशाल, इतनी प्रफुल्लित नहीं थी | उसकी आत्मा को अब खुशबूदार मीठे शरबत की जरूरत नहीं | वह शीतल पानी भरे ग्लास की ओर लपका, उसका मन जैसे गंगा की उफनती लहरों पर तैरता हुआ सकीना को खोज रहा था | ह्रदय गंगा की लहरों की ओर तन्मयता से ताकते-ताकते उसे मालुम हुआ ,’’ मैं बहा जा रहा हूँ ‘’; उसने चौंककर घर की ओर देखा, दोनों आँखें आँसू में डूबी हुई थीं और स्मृति , उसका हाथ थामे, जीवन-रंगभूमि की ओर चली जा रही है | वह स्मृति को देखकर , नन्हें बालक की तरह खिलखिलाया , जिसे देख जिंदगी, स्नेहा बोली— माधव ! तुम्हारी स्मृति लौट आई है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial