बेटियाँ—अ कीर्ति वर्द्धन

बेटियाँ

Inboxx
Kirti Vardhan Sun, Dec 8, 9:16 AM (1 day ago)
to mr, bcc: me

उड रही हैं बेटियाँ, उस उडान की तरफ,

अन्जान जिसकी मंजिल, मुकाम की तरफ|

विस्तृत गगन सामने, कोमल पर लिये,

धरा छोड उड रही, आसमान की तरफ|

है गगन विशाल सामने, सूरज भी जल रहा,

उडने की ललक है, मन्जिल का नही पता|

हों बाज से प़ंख, और वापसी का भान हो,

आगे बढें मगर बेटियों को, इतना तो दो जता|
अ कीर्ति वर्द्धन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM