चारों तरफ तामसी ,प्रबृति का बोलबाला –कवि मोहन श्रीवास्तव

Mohan Srivastava Poet

30 अगस्त 2018 ·

चारों तरफ तामसी ,प्रबृति का बोलबाला

निशाचर समान इंसान आज हो रहे |

जीवहत्या नशाखोरी , पापकर्म , बेईमानी

बुरे कर्मों का बीज सब जगह बो रहे ||

नारियों पे अत्याचार, रोज होते बलात्कार

बेटियों को गर्भ में ही आज लोग खो रहे |

पाप कर्म देख देख ,और अमंगल वेष

सीधे सादे इंसान सब तरफ रो रहे ||

कवि मोहन श्रीवास्तव
http://kavyapushpanjali.blogspot.com/20…/…/blog-post_30.html

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM