बुढापा–अ कीर्ति वर्द्धन

बुढापा

Inboxx
Kirti Vardhan 5:57 PM (43 minutes ago)

Kirti Vardhan

5:57 PM (46 minutes ago)

to kirti, bcc: me
सच है
मै अतीत हो गया हूँ
मगर
कौन कहता है
कि
मै बूढा हूँ,
गौर से देखो
सुनो
और समझो मुझे
मै
तजुर्बों का विशाल
दरख्त हो गया हूँ|
वस्त्र
कुछ मैले कुछ पुराने
हो रहे है
कुछ फट गये
नये की राह
जोह रहे हैं|
बस
जिसे तुम
बुढापा कह रहे हो
फटे वस्त्रो को
सह रहे हो|
जल्द ही
ऐसा समय भी आयेगा
वस्त्र पुराना ही सही
अपने महत्व का
अहसास दिलायेगा|

अ कीर्ति वर्द्धन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM