आ भी जाओ, राह तुम्हारी– – ठाकुर दास ‘सिद्ध’

https://www.facebook.com/thakurdas.siddh.1?fref=nf&__tn__=%2Cdm%2AF-R&eid=ARAQrS3_f7n5K2aRY_vWfIgnkiy-L3mtGZKDvVrTbELhNRuSPwqR5L7WG9t5JlHRNRwnWUo3VV3WD0Tj
Thakurdas Siddh

20 घंटे ·

आज की चंद पंक्तियाँ और मोबाइल पर बनाया गया एक चित्र।

*****
आ भी जाओ, राह तुम्हारी
देख रहे हैं खड़े – खड़े जी।
काहे इतनी देर लगा दी
गुलदस्ते के फूल झड़े जी।
*****
– ठाकुर दास ‘सिद्ध’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM