जानवर आदमी में मिलते हैं– – ठाकुर दास ‘सिद्ध’

जानवर आदमी में मिलते हैं(ग़ज़ल)खत्म सर्कस हुआ चलो यारो।अपना तंबू समेट लो यारो।***कुछ उसे दो कि शेर भूखा है,और…

Posted by Thakurdas Siddh on Monday, November 11, 2019

Thakurdas Siddhकल ·  जानवर आदमी में मिलते हैं
(ग़ज़ल)

खत्म सर्कस हुआ चलो यारो।
अपना तंबू समेट लो यारो।
***
कुछ उसे दो कि शेर भूखा है,
और ख़ुद को भी कुछ तलो यारो।
***
कुछ न हासिल हुआ तो रोना क्या,
अपने दो हाथ हैं मलो यारो।
***
सारे जोकर उदास बैठे हैं,
दर्द उनका भी पूछ लो यारो।
***
रात ठंडी है और काली है,
कुछ जलाओ या ख़ुद जलो यारो।
***
जानवर आदमी में मिलते हैं,
जान लेते हैं, जान लो यारो।
***
‘सिद्ध’ ये वक़्त का तकाज़ा है,
तीर ले लो, कमान लो यारो।
*****
– ठाकुर दास ‘सिद्ध’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM