पाअड़ी कबता >{ बेदणां } –>सुषमा देवी

पाअड़ी कबता

{ बेदणां }               

तुंहा वाजी सजणा किछ छैेेल हैनी लगदा

औंदा चेता तुहां रा रोज डुली- डुली बगदा

कितणां समझांआ हैंनी मणदा

तुहां कन्नै मिलणेयों दिल गलांदा

कंम्मे करी लिदलडु लांणा सिखणी

तुहां याद औंदे तां मैं कबता लिखणी

दिलडु रे तैहां डुग्गे तुहां बस्सदे

चुप चुपाते कियां रैहणा माहणु दिखि हस्दे

मती हुन्दी डुगी दिलां री लगी हांणिया

तुहां जो दिलां च बसाया तां ए गल्लां जांणीयां

बांई बिच बंगा छण- छण बजदीयां

दरांणीयां- जठाणीयां मखोल करदीयां

अवा कन्नै रूखां रे पतरअ सर – सर चुलदे

सामणे खड़ोते मिंजो तुहां लुभदे

तुहां कन्नै मेरे तीज- त्यार न

तुहां तांई सजणा मैं किते श्रंृगार न

कम्मे कमाई मुकदा ध्याड़ा अखांच निकलदी रात ए

तुहां तोअली औंगे दिलडुए च इक्को आस ए

सुषमा देवी

गँाव व डाॅकघर भरमाड़

तहसील ज्वाली जिला काँगड़ा

हिÛ प्रÛ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM