इक मुअठ सीते री(“ पाअड़ी कबता ”)–सुषमा देवी

10रू41 ।ड ;6 ीवनते ंहवद्ध

जव उम

“ पाअड़ी कबता ”

{ इक मुअठ सीते री}

शिवरात्रीयाओ भोलेनाथ, खोलदे अपणी चोअली

कन्नैं जीजु- कंडुआयों दिन्दे, तरती पर छोअड़ी

मुक्कदे मीअने जन्मअष्टमीयाओ बाबा, चोअली बन्नी लैंदे,

कन्नै इक मुअठ सीते री, तरती पर छोअड़ी दीन्दे

निक्के हुणां लगदे ध्याड़े, कन्नैं वद्दणां लगदा सीत

वद्दीयां रातीं स्यांणे गलांदे आए, कन्नै बणीयो जीए रीत

छोड़ी हुणां लगदा नेअरा, मअठी- मअठी हुन्दी ब्याग

अपणे म्हाचले रियां मतीयां छैल रूतां, बखरे रूआज

मुक्कदीयां बरखां, मतीयां रिजां कन्नै मणांदे जी इथ्थु सेयर

अपणेयां सबणां रियां पुछदे, सेयर मणांईए जी खैर

पक्की आंदीयां छलीयाँ, ताअन खुसी हुन्दा किसाणं

काअलु करणी बढ़ाई, माह्णु अप्पुचा गलांण

औंणे आलेे नराते,जय माता दी गलांण

कअटी आंदा बुयाला, खरी लगणा लगदी धुप्प

ओयले- ओयले बदणां लगदी, सैह् सीते री मुअठ

Ûसुषमा देवी

गाँव व डाॅकघर भरमाड़

तहसील ज्वाली जिला काँगड़ा

हिÛ प्रÛ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM