हृ-स्पर्शराग-रंजित भूषित-भव–कहफ रहमानी

Kahaf Rahmani

Inboxx
Dark Horse Herbal <rahmanikahaf@gmail.com> 3:26 PM (34 minutes ago)
to me

‘हृ’ – स्पर्शराग-रंजित भूषित – भव
नीत-सकल सम्यक न
समतामूलक – प्रमाण ‘स्पर्श’
हस्तगत प्रेक्षा का ऊष्मीयमान।

शैथिल्य _आश्लथ, प्रगाढ़ चुम्बन
अहा!       अरी,        अहो ;
उच्छृंखल, उच्छवसित _स्वरैक्य – स्वन।

अयी, मेदिनी
प्रीतिपात  का मूल्य फिर?

“संदर्भ-वैशिष्ट”   तुम
किन्तु शीर्षक भिन्न-भिन्न,

संकेन्द्रित सुसूक्त यह 
” कर अर्पित यौवनोपहार
क्षम्य नहीं  कौमार्य”।

अट्टहास मादन वक्ष पर के
मधुमत्त कटि, विहंसित – कुसुमित नितम्ब
औ’  कच-कुन्तल
स्यात_  पृष्ठ अनेक एक ही पुस्तक के
विशिष्ट वस्ति-प्रदेश एक।

तृषा स्तर-स्तर
तीव्र-तीव्र – मदिर – मधुरिम
आवृत्त निरन्तर।

मैं अल्कावलि!
उदग्र  विकारों की  महौषधि
रक्तचाप केवल
बाह्य – आंतरिक  द्विपात – निपात।

समाविष्ट रक्त – वीचियों में
समस्त  केलि,
मैं केलिकला!
आकृतियों पर उल्लिखित ‘रोष ‘
उद्वेग – उद्द्वेप।

भिन्न_ समस्टिकुल से
प्रगाढ़ आलिंगन, द्रवण, संघनन
निरन्तर अवतरित हृ-पृष्ठों पर।

परिपक्व विचार श्रेष्ठतम
आदर्शों पर
पृष्ठ_दीर्घ     न लघुव्याल।

“क्लांत वह्नियों  का न कोई  अर्थ
व्यर्थ है यह  मूर्च्छा, अवसन्नता “।

               (  कहफ रहमानी)
rahmanikahaf@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM