*सुपाथेय षट दर्शन (चतुर्थ खण्ड ) के रचयिता ,सुकवि सुखमंगल सिंह द्वारा – ० सुरेन्द्र वाजपेयी

Inboxx
Sukhmangal Singh Sun, Jul 28, 7:56 AM (22 hours ago)
to me

*सुपाथेय  षट दर्शन (चतुर्थ खण्ड ) के रचयिता ,सुकवि सुखमंगल सिंह द्वारा – ० सुरेन्द्र वाजपेयी 
सुकवि सुखमंगल सिंह कृत इलेक्ट्रानिक मीडिया से प्रकाशित ‘  सुपाथेय  षट दर्शन (चतुर्थ खण्ड ) को पढ़ने का अवसर प्राप्त हुआ 
| इस संग्रह को उन्होंने अपनी माता श्री और पिता श्री को सादर समर्पित किया है | इस कृति में समय-समय पर कवि द्वारा धार्मिक
 स्थलों ,संतों-महात्माओं के दर्शन आदि से ब्याप्त अनभव को पाठकों के साथ साझा करने का प्रशंसनीय प्रयास किया गया है | आज के यांत्रिक दिन चर्या और जीवन में शान्ति प्राप्ति का सुगम साधन ध्यान-दर्शन की साधना ही लाभकारी होगी, ऐसा ही हो,
यही कवि की लोक कामना है | 
सुकवि सुखमंगल जी इस कृति के माध्यम से भारतीय संस्कृति ,सभ्यता ,धर्म, साहित्य ,कला आदि को निरंतर सशक्त बनाने की
 प्रशंसनीय  पहल करते हैं | इसके लिए वह बधाई के पात्र हैं | कृति पठनीय एवं संग्रणीय है | कामना है ,कवि का रचना संसार निरंतर वैचारिकता ,सामाजिकता और कलात्मकता से सतत समृद्ध हो,समुन्नत हो और राष्ट्रभाव
 से सराबोर हो | 

                                                                                      ० सुरेन्द्र वाजपेयी ०  १४ जनवरी २०१९ ई.                                                                                     समीक्षक लेखक ,,व्यंग,नव गीत                                                                            हिन्दी प्रचारक पब्लिकेशंस प्रा ० लि ०                                                                              सी २१/३० पिशाचमोचन ,वाराणसी -२२१०१०                                                                              उत्तर प्रदेश  – भारत 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM