पाअड़ी कबता-{ “रूतां रा राजा ” }—सुषमा देवी

पाअड़ी कबता

{ “रूतां रा राजा ” }

सावण माह मतीयां बरखां, रसलीयाँ मसलीयाँ चड़ीयाँ

खड्डां नालु छलछल बग्गदे, छड़् छड़् करदीयां नदीयाँ

स्यांणे गलांदे सौंण मीअने, शिवजी तरती पर औंदें

चार सोमवार करगे पूजा, पूरे साले जितणे गणौंगे

भोले बाबा शिवरात्रीयाओ, खोलदे अपणी झोली,

कीडे़ ,सप्प,जीजु- कन्डुयांओ तरतीपर दींदे छोडी

मुक्कदे मीअने जन्मअष्टमीयाओ बाबा, झोली बन्नी लैंदे, ऐह स्यांणे गलांदे

शिवमय होई आंदा आला ध्वाला, छैल नीला लगदा अम्बर

काबड़ी लेई जांदे पगत गांदे जयजय शंकर

डंगरे चारदे, नाखा,अम्बा,जमणुयां खंादेे किठ्ठे होई गवालु

सैलेसैले रूख बुटे होई आंदे, सैली ओई आंदी तरत

जंजीरे -मंजीरे राग सुणांदे, मेंढक टर्र-टर्र करलांदे

मुड़के ते रूअ ओई आंदी सांत, मता खरा लगदा ठंड्डा वात

किसांणा रा दिलडु हरा होई आंदा, लगांदे ऊर कन्नै बांदे छलींया

तिल, माह कन्नैं बांदे रौंगी, अणमुक लांदे खीरे

सैलीयां पीपली लंूणे ने खाण, तां सुआद मते बदीया

चंऊ बक्खे सैला- सैला आंेई आंदा, मता बांका लगदा

कुअ- कुअ गांदी कोअल, मिठ्ठड़े पअलां याद करांदी

दरांणीयाँ – जठांणीयाँ करणं मखौंला याद वालम दी औंदी

लम्मीयां लम्मीयां डोरां कन्नैं पीपअले पींगा पांण

जिनां रे वालम गेए वदेंसां सैंह किंया दिलडु लांण

Ûसुषमा देवी

गाँव व डाकघर भरमाड़

तहसील ज्वाली जिला काँगड़ा

हिÛ प्रÛ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM