हौसला कुछ कम न कर–अमरेश सिंह भदौरिया

मुक्तक

Inboxx
Amresh Singh Thu, Jun 20, 10:25 PM (2 days ago)
to me

गुरबतों में  रह  कर भी  तू

आँख अपनी  नम न  कर।

हालात हो प्रतिकूल भी गरतू

 ज़रा  सा   गम  न  कर।

परिवर्तन ही  प्रकृति     का

शायद शाश्वत  नियम     है,

मिलेगी   मंज़िल   तुझे  भी

हौसला कुछ  कम  न  कर।
©अमरेश सिंह भदौरिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM