“सुन पाक अब”—शिवांकित तिवारी “शिवा”

कविता शीर्षक:-“सुन पाक अब”

Inbox
x

Shivankit Tiwari

Attachments8:14 PM (43 minutes ago)

सुन पाक सभी नापाक तेरे मंसूबों को हम तोड़ेंगे,

तन के तेरे अन्दर के लहू का कतरा-कतरा हम सारा निचोड़ेंगे,

तू भूल गया जाने कितने भारत ने तुझ पर एहसान किये,

कुत्तो वाली इस हरकत से हर कितने तूने कितने प्राण लिये,

हम हिन्दुस्तानी अब तक तुझको देते जीवनदान रहें,

तेरे कारण कितने माँओं और बहनों ने भीषण कष्ट सहे,

अब और नही कर गौर तू भी एक-एक हिसाब अब हम लेगे,

अब पाक तेरे इस मुल्क को ही हम मिट्टी में सीधे मिला देगे,

भारत माँ के वीर सपूतों पे सदैव तूने पीछे से वार किया,

कायरता का परिचय देकर तूने भीषण नरसंहार किया,

अब सहन नही होगा क्योंकि अब जाग गया है हिन्दुस्तान,

पाक तेरे घर में घुसकर अब तुझको मारेगे वीर जवान,

पुलवामा में जो शहीद हुये भारत माँ वो सारे लाल सभी,

उनकी कुर्बानी का बदला अब हम लेगे हर हाल अभी,

अब,सुन पाक सभी नापाक तेरे मंसूबों को हम तोड़ेंगे,

व्रत है अब हर हिन्दुस्तानी का पाक को शमशान बनाकर छोडेंगे,

-©शिवांकित तिवारी “शिवा”

    युवा कवि एवं लेखक

      सतना (म.प्र.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM