“स्वप्न दल “—Sukhmangal Singh

“स्वप्न दल ”

अगर राज हो मेरे दल को ?
सभी लोग आराम करेंगे |
सदा नशा में बुत्त पडा हो
अपना नया समाज रहेगा |
                           फेकेगे पासा पुनि शकुनी
                           बहुमत प्रबल पगार रहेगा !
                           गाजा भांग शराब चरस औ ,
                           राजकीय बहु व्यापार रहेगा |
देश-देश भीख मांगने ,
भेजे भिखमंगे जायेंगे |
अफसर सारे आराम करेंगे
डट चारो धाम करेंगे |
जा विदेश धन लायेंगे
मिल जुल उसे सभी खाएंगे |
                           तिव्वत से दुशाला लायेंगे
                          मेवाड़ क मखमल पहनाएंगे |
                          समलैंगिक सरकार बनेगी
                          फिल्मी शिक्षा मुक्त मिलेगी ?
                          अगर युवक सब मांग करेंगे
                          डिग्री सारी मुक्त मिलेगी !
मंत्री कोई मतिमंद न होगा
लेना रिश्वत बंद न होगा ?
रिश्वत ते चंदा आयेगा
बन्दा बैठा-बैठा खायेगा |
                       महामूर्ख को जनता जाने
                       मूछ मुडाये सूत पहिचाने !
                      जिनकी महिमा पुलिस बखाने ?
                       कलियुग संत समाज भी माने |
                       नव युग मंत्री को पहिचानें –
                       प्रजातंत्र हौ खुद को जानें ||
 

Sukhmangal Singh

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Twitter
LinkedIn
INSTAGRAM