निर्भया फैसला: मां और पिता बोले सुप्रीम इंसाफ मिल गया (रश्मि कुलश्रेष्‍ठ)

 

निर्भया फैसला: मां और पिता बोले सुप्रीम इंसाफ मिल गया

(रश्मि कुलश्रेष्‍ठ)

नई दिल्ली (साई)। पूरे देश को स्तब्ध करने वाले निर्भया गैंग रेप मामले में सुप्रीम कोर्ट ने अपने ऐतिहासिक फैसले में चारों दोषियों को फांसी की सजा सुनाई है। कोर्ट ने निर्भया गैंग रेप को पूरे देश में सदमे की सुनामीबताते हुए कहा कि इस केस ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था।

कोर्ट ने माना कि इस मामले में अमीकस क्यूरी की ओर से दी गई दलीलें अपराधियों को बचाने के लिए पर्याप्त नहीं थीं। इस फैसले के बाद अदालत में लोगों ने तालियां बजाईं और निर्भया के पैरंट्स को समझते देर नहीं लगी कि इंसाफ हो गया है। निर्भया के पिता ने फौरन पहली प्रतिक्रिया में कहा कि इस मामले में चारों को फांसी की सजा जरूरी था ताकि समाज में सही संदेश जाए। उन्हें तसल्ली तब होगी जब चारों को फांसी पर लटकाया जाएगा।

दोपहर करीब एक बजकर 15 मिनट पर निर्भया की मां और पिता दोनों कोर्ट में पीछे की सीट पर बैठ गए थे। उनके साथ उनके कई शुभचिंतक भी वहां मौजूद थे। निर्भया की मां पीछे वाली सीट पर बैठी हुई थीं। पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि उन्हें कल जब पता चला कि शुक्रवार को फैसला होने वाला है उसके बाद से वह इंसाफ का इंतजार कर रही थीं। रात भर वह इस कारण सो नहीं पाई थीं। सुबह जब अपनी बेटी का फोटो देखी तो यही कहा कि चलो आज तुम्हें सुप्रीम कोर्ट से इंसाफ मिलेगा। बता दें कि निर्भया 23 साल की थी जब ये हादसा हुआ था आज वह जिंदा होती तो मेडिकल की पढ़ाई पूरी हो चुकी होती और शायद उसकी शादी भी हो गई होती। निर्भया की मां के चेहरे पर चिंता की लकीर भी दिख रही थीं और आंखें भरी हुई थीं।

निर्भया के पिता ने कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि उन्हें इंसाफ मिलेगा। जब कोर्ट ने फैसला सुनाया तब उन्होंने कहा कि सही मायने में इंसाफ मिल गया है। निर्भया के साथ-साथ देशभर को इंसाफ मिला है। उन्होंने कहा कि अपराधियों पर लगाम के लिए यह जजमेंट एक संदेश की तरह होगा। उन्होंने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा था कि इस मामले में फांसी की सजा बरकरार रहेगी और वही हुआ।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जब ताली बजी तो निर्भया के पिता का भरोसा पुख्ता हो गया। हालांकि उन्हें तसल्ली उस दिन होगी जिस दिन चारों मुजरिमों को फांसी पर लटकाया जाएगा। निर्भया की मां ने कोर्ट से बाहर निकलने के बाद ये भी कहा कि इस घटना के बाद जिस तरह से देश ने निर्भया को इंसाफ दिलाने के लिए लड़ाइयां लड़ी हैं उसके लिए वह सबका धन्यवाद देती हैं। उन्होंने साथ ही कहा कि आगे कोई बच्चियों के साथ ऐसी दरिंदगी न करे इसके लिए लड़ाई जारी रहनी चाहिए। उन्होंने कहा कि उन्हें आखिर में इस बात की तसल्ली है कि निर्भया को इंसाफ मिला है।

निर्भया के माता-पिता ने मीडिया से मुखातिब होते हुए कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट के फैसले से संतुष्ट हैं और उम्मीद करते हैं कि फांसी की जो सजा अपराधियों को मिली है, उस पर जल्द ही अमल भी किया जाएगा। निर्भया की मां ने यह मांग भी रखी कि रेप विक्टिम्स के लिए अलग से कोर्ट हो ताकि दोषियों को जल्द से जल्द सजा मिले और विक्टिम्स को न्याय के लिए सालों तक भटकना न पड़े। अगर ऐसा होता है तो कानून में हमारा विश्वास और मजबूत होगा। आज जो लोग खुलेआम कानून हाथ में लेकर बच्चियों को उठाते हैं, उनका रेप करके उन्हें फेंक देते हैं, अगर फास्ट ट्रैक अदालतों के जरिए उन्हें जल्दी सजा मिलेगी तो ऐसे लोगों के हौसले पस्त हो जाएंगे।

गैंगरेप और मर्डर केस के नाबालिग अपराधी के कानून के पंज से छूट जाने पर निर्भया के परिवार का अफसोस आज भी बरकरार है। निर्भया की मां ने कहा कि हालांकि हमें बहुत बड़ी कामयाबी मिली है लेकिन पूरा न्याय अब भी बाकी है। हमने जी-जान लगा दिया कि जो नाबालिग अपराधी छूट गया है उसको भी फांसी की सजा मिले, सुप्रीम कोर्ट में भी अपील डाली लेकिन वह भी खारिज हो गई।

 

—————————–

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *