दीन-हीन मजबूर, हुए बार-बार हम—-Deepak Patel

घनाक्षरी                      

दीन-हीन मजबूर, हुए बार-बार हम ,फिर भी है आज मेरी,एक पहचान है ।

खून देके शूर वीर, हरते पराई पीर,हो रहा है आज नित ,ज्ञान का विहान है।                           

जल थल वायु और, शशि रवि मेंघ तारें,सब पे  विजयी हम, खोजा आसमान है।

राम से चला ये देश, आन बान शान लिए, जग में है एकमात्र,भारत महान है।                                                                                  

छोटी सी उमर में जो कर गए बड़े काम,  लाडलों की ऐसी जिंदगानी को प्रणाम है ।

ईंट का जवाब देते पत्थरों से ऐसे वीर,बांकुरोें की खून की रवानी को प्रणाम है ।

शत्रु के समक्ष नहीं खोया बल साहस को, शेखर सुभाष की जवानी को प्रणाम है ।

लाल बाल पाल और मंगल तिलक नाना, बार-बार झांसी वाली रानी को प्रणाम है ।

मुक्तक                             ।

पराक्रम शौर्य था जग में वतन ऐसा ये अपना था ।                             

यहां पर थे भगत शेखर शिवा राणा भी अपना था ।                             

मगर अब क्यों नहीं है बल युवाओं में यहां वैसा ।।

जमाना ये भी अपना है जमाना वो भी अपना था।                                                                                                

। हमें आशीष मिलता है सदा हम प्यार पाते हैं ।।।                           

भारत मां के चरणों में सदा हम सर झुकाते हैं।  ।                             

मगर हम चाहते उन सपूतों की करें पूजा।                                     

जननी के लिए हंस कर जो अपना सर कटाते हैं

Writen by Shailendra Deepak Patel   Lucknow

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *