विश्वचि माझे घर—- प्राचार्य श्रीधर हेरवाडे, कोल्हापूर

पुस्तक परिचय   विश्वचि माझे घर म्हणजेच ब्रम्‍हविलासांचा प्रासादिक शब्‍दविलास   श्री. ब्रम्‍हविलास पाटील (जयसिंगपूर) यांनी, ज्‍योतिषशास्‍त्राचा अभ्‍यास चांगला केला आहे. याबरोबरच धर्मज्ञानाचेही सम्‍यग्ज्ञान त्‍यांना आहे. या दोन्ही शास्‍त्रासंबंधी त्‍यांनी आपल्‍या ‘विश्वचि माझे घर’’, या पुस्‍तकाविषयी सुयोग्‍य लेखन केले आहे. Read More …

रिहाई मंच प्रतिनिधिमंडल ने आत्मदाह की कोशिश करने वाले राजकुमार भारती से की मुलाकात

Rihai Manch : For Resistance Against Repression ——————————————————— रिहाई मंच प्रतिनिधिमंडल ने आत्मदाह की कोशिश करने वाले राजकुमार भारती से की मुलाकात योगी राज में दलितों की स्थिति जानवरों से भी बदतर होने की सम्भावना. मंगल राम बलिया 30 मार्च Read More …

परमात्मा-पिता — विशिखा अमोल इंगेवर

परमात्मा-पिता पिता के कई रूप,कई नाम,पर पिता एक ही जन्म देनी वाली  माँ हमारी आत्मा है,तो पिताजी परमात्मा,पिता के अलग अलग स्वरूप को निस्वार्थ  स्वाभाव को कैसे पहचाने,धरती में जन्म लेने वाला हर एक व्यक्ति परमात्मा (पिता) के नाम को अलग अलग Read More …

तू मुझमें छिपी , मैं तुझमें छिपा—सर्वेश कुमार मारुत

            ( 1) तू मुझमें छिपी ,  मैं तुझमें छिपा। मैं तुझमें ही खो जाऊँ,  मैं अपनी प्यास बुझाऊँ। तरसूँ मैं तो तेरे बिन,  फिर और कहाँ मैं जाऊँ? तेरे रूप का ऐसा चर्चा,  न Read More …