tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






वैलेंटाइन

 

 

वैलेंटाइन

 

 

संजीव

*

उषा न संध्या-वंदना, करें खाप-चौपाल

मौसम का विक्षेप ही, बजा रहा करताल

*

लेन-देन ही प्रेम का मानक मानें आप

किसको कितना प्रेम है?, रहे गिफ्ट से नाप

*

बेलन टाइम आगया, हेलमेट धर शीश

घर में घुसिए मित्रवर, रहें सहायक ईश

*

पर्व स्वदेशी बिसरकर, मना विदेशी पर्व

नकद संस्कृति त्याग दी, है उधार पर गर्व

*

उषा गुलाबी गाल पर, लेकर आई गुलाब

प्रेमी सूरज कह रहा, प्रोमिस कर तत्काल

*

धूप गिफ्ट दे धरा को, दिनकर करे प्रपोज

देख रहा नभ मन रहा, वैलेंटाइन रोज

*

रवि-शशि से उपहार ले, संध्या दोनों हाथ

मिले गगन से चाहती, बादल का भी साथ

*

चंदा रजनी-चाँदनी, को भेजे पैगाम

मैंने दिल कर दिया है, दिलवर तेरे नाम

*

पुरवैया-पछुआ कहें, चखो प्रेम का डोज

मौसम करवट बदलता, जब-जब करे प्रपोज

*"

 

 

 

संजीव ‘सलिल’  

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...