tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






हम ठोस धरातल दे न सके

 

हम ठोस धरातल दे न सके

 

 

हम ठोस धरातल दे न सके,
दीवानों के अरमानों को|
कुछ पल न संजोकर रख पाए,
उनकी यादों, सम्मानों को|
इतरा इतरा कर चलते हैं,
हम आज़ादी की जाजम पर|
श्रद्धा के सुमन चढ़ा न सके,
हम वीर शहीद-ए-आज़म पर|

 

 

 

--आरसी

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...