swargvibha banner

होम रचनाकार कविता गज़ल गीत पुस्तक-समीक्षा कहानी आलेख E-Books

हाइकु शेर मुक्तक व्यंग्य क्षणिकाएं लघु-कथा विविध रचानाएँ आमंत्रित

press news political news paintings awards special edition softwares

 

 

newyear

नव वर्ष की किरण कुछ यूँ आए 
आतंक का ये अंधकार मिट जाए 
उषा जागे निशा भागे 
देख सके इन्सान कुछ और आगे  
खुश हो न जाए मात्र तसल्ली पाके
कुछ ठोस विचारों में भी वो झांके 
उत्साह की बयार  घर घर छाये 
आतंक का ........................
कोई न रोटी को तरसे 
खेतों में पानी समय पे बरसे 
मरे न किसान आत्महत्या करके 
माँ भारती की आंखों से न आंसू बरसे 
दुआ ये हमारी  काश कबूल हो जाए 
आतंक का ................................
दुनिया को राह दिखने वाला ख़ुद भटक गया 
अपने ही सपूतो के हाथों लुट गया 
जो था देश भारत प्रदेशों में बट गया 
इसीलिए बाहर वाला इज्जत पे दाग लगा गया  
काश विश्व के मानचित्र पे भारत फ़िर मुस्काए 
आतंक का .............................
-----------------------------------------------------------
 
रचना श्रीवास्तव 
 
HTML Comment Box is loading comments...