swargvibha banner

होम रचनाकार कविता गज़ल गीत पुस्तक-समीक्षा कहानी आलेख E-Books

हाइकु शेर मुक्तक व्यंग्य क्षणिकाएं लघु-कथा विविध रचानाएँ आमंत्रित

press news political news paintings awards special edition softwares

 

 

diwali greetings

हर बाम पर रोशन काफ़िला - ए - चिराग़
हर बदन पर कीमती चमकते हुए लिबास
हर रूख पर तबस्सुम की दमकती लहर
लगती है शब भी आज कि जैसे हो सहर
माहौल खुशनुमा है या खुदा इस कदर
दिखता है कभी कभी ऐसा बेनज़ीर मंज़र ।

मैं सोचता चल रहा हूँ अपने घर कि ओर
कहाँ चली गई तारिकियाँ ,कहाँ बेबसी का ज़ोर
कहाँ साये - ग़म खो गये , कहाँ निगाह से आब
कहाँ खामोशियाँ लबों की , कहाँ आहों का शोर ।

पुरा शहर किस तरह झिलमिला रहा है
ज़र्रा - ज़र्रा बस्तियों का नज़्म गा रहा है ।
डूबा इसी ख्याल में जब मैं अपना दर
खोलता हूँ तो दिखती हैं खामोशियाँ, तन्हाईया
पूरे शहर की तीरगी , पूरे शहर का दर्द
पूरे शहर की बेबसी और आह की परछाइयाँ ॥

 

 

HTML Comment Box is loading comments...