swargvibha banner

होम रचनाकार कविता गज़ल गीत पुस्तक-समीक्षा कहानी आलेख E-Books

हाइकु शेर मुक्तक व्यंग्य क्षणिकाएं लघु-कथा विविध रचानाएँ आमंत्रित

press news political news paintings awards special edition softwares

 

 
दीप-पर्व
diwali greetings
.
ओ आद्याशक्ति
महालक्ष्मी!
आओ
सर्व-हित प्रेरक बन
मन पर छाओ!
.
जन-जन का अन्तर
आत्मीय भाव से
परिपूरित हो,
वसुधा का कण-कण
शीतल प्रकाश से
ज्योतित हो!
.
सर्वत्र आर्द्र स्नेह भरो!
कृतकृत्य करो!
.
रात अमावस्या की
प्रज्वलित दीपों से
जगमग हो,
अंधकार
एकांत स्वार्थ का
डगमग हो!
.
हम मिलें
परस्पर
नाचे-गाएँ
नाना वाद्य बजाएँ
हर्ष मनाएँ!
 

 
HTML Comment Box is loading comments...
 