www.swargvibha.in






 

हिन्दी


......शशांक मिश्र भारती


आठ शती के
संघर्ष के बाद
संकट ग्रस्त स्थिति के गुजरने के बाद
चमकने वाली हिन्दी
चमकती रहेगी,
जब तक-
सूर्य की किरणें रहेगीं
मेरी मातृभाषा-राष्ट्रभाषा रहेगी।

 

HTML Comment Box is loading comments...