tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






 

 

शिव - विवाह

 

shiv vivah

 

हमरी गउरा है बारि - कुँवारी , दईबा ये क्या किया .
पान के पात सी है सुकुमारी, राजा हिमालय की राजकुमारी .
शिवशम्भु सनकी हैं भारी, दईबा ये क्या किया .
हमरी गउरा है बारि - कुँवारी , दईबा ये क्या किया .
भूत-परेत बारात में लाये ,बसहा बैल चढ़ शंकर जी आये .
दुल्हा है या है मदारी , दईबा ये क्या किया .
हमरी गउरा है बारि - कुँवारी , दईबा ये क्या किया .
मैना ने सोचा ये कैसा जमाई , मौरी नहीं सर गंगा समाई.
नारद को जी भर दी गारी, दईबा ये क्या किया .
हमरी गउरा है बारि - कुँवारी , दईबा ये क्या किया .

 


---सतीश मापतपुरी
---- महाशिव्ररात्रि की हार्दिक बधाई ----

 

 

HTML Comment Box is loading comments...