tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh









पाने को इज़्जत मुहब्बत क्यों मैं तरसाई गई

 

women day

 

*पाने को इज़्जत मुहब्बत क्यों मैं तरसाई गई ।
लड़कियों के भाग में क्यों ये कमी पाई गई ।


*ग़र बखूबी मैं बनी माता बहिन बीवी सुता ।
कोख में मैं हर दफा क्यों ऐसे दफ़नाई गई ।


*और अब घर से निकलना इस कदर दूभर हुआ ।
जब जहाँ थी मैं अकेली नोच कर खाई गई ।


*फेर जिनकी नीयतों में साफ दामन वो यहाँ ।

फिर मेरे ही हिस्से क्यों ये तोहमत लाई गई ।


*छोड़ कर मैं मायका आई सजन के जब कभी ।
फिर दहेजों की अगन क्यों मुझपे ही ढाई गई ।


*हार कर जब सोच पहुँची खुदखुशी तक तो नितिन।
किन बहानों से तबीयत राह पर लाई गई ।

 

 

 


नितिन सिकरवार..

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...