वतन ये मेरा, बहती---madhu trivedi

Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 21565
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

वतन ये मेरा, बहती---madhu trivedi

Post by admin » Thu Jul 12, 2018 10:51 am

madhu trivedi

Image

वतन ये मेरा, बहती
जहाँ स्नेह फुहार है
जहाँ पर हर प्रेम बंधन
में हार स्वीकार है

बहती जहाँ रगो में सतत
निर्मल , पावनि गंगा
रहता है जहाँ पर हर
इक दिल चंगा

वहाँ दिलों में हर रोज खिंची क्यों
जाँति -पाँति की अमिट दीवार है

पति पत्नी में न समरसता
रिश्ते लगते झूठे
सार न जिन्दगी का कोई ,
कोरे लगते ठूँठे

अब न शेष बचा उत्साह
और उन्माद है
ग्रहण लगा कैसा अस्तित्व
हो गया तार तार है

बाप बेटे में तन रही , खेले खून की होलियाँ
भारत भू हो गयी लाल अपने पर दागे गोलियाँ

जीवन हो गया मुश्किल
करूँ कान्ह पुकार
घर के झगड़े घर से निकल
रोज अखवार है
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply