(पहाड़ी़ कबता)“पलच्छ बरखा दा”---सुषमा देवी

Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 21467
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

(पहाड़ी़ कबता)“पलच्छ बरखा दा”---सुषमा देवी

Post by admin » Mon Aug 13, 2018 5:34 pm

पहाड़ी़ कबता

“पलच्छ बरखा दा”

दिखा माह्णुओ बरखा कदेया, कहर तरती पर ढ़ाया

चोंई बख्खेे होआ पाणी- पाणी, कदेया पलच्छ भरप्पाया

खड्डा- नालू खतरे नसाणे, खिसका करदे पआड़

रूकीऐईयां माहणुओं बत्तां दिखा ईंना लैंड स्लाडिगां ढाया कहर

रूड़ीए जाड़- वसूंट सारे थां -थंा आईयो बाढ़

गडीयां मोटरां दे रूकीए रस्ते, लोई आए सड़काच पआड़

रूढी आंदे दिखा माह्णु मिया,े नालुयां- खोलुयां टप्पदे

छोरू छोकरू भी रूड़ा करदे फाटो- सैलफियां खिचदे

दरकिया दे पआड़, अपणे घरद्धार गेयो दबोई

डुब्बी एईयां गौषला मतीयां, डंगरे मरीए घटोई

बड़े- बड़ षहर दिखा, पाणी कन्नै गेओ भरोई

गा्रं दे गा्र्रं माह्णुओ, पाणीए थल्ले गे डुबोई

अणमुक गेईयां जिन्दां मेयो, मुक्कीए कुल कितणे सारे

नां नसाण नी रेया तिणां दा, उचे थे जेहडे़ चवाॅरे

टुट्टीईयां सडकां रूडीए पुल बणीए ओथु खडडां नाले

कुथु मिलणे उण मेरीए जिन्दे जेहडे ,रूडीए दिलां दे प्यारे

रूड़ी ,डुबी ,ढ़ेई गेईयां फसलां रूड़ी गेए कन्नै खे़त्र

बांअ- बांअ करदे फिरदे डंगरे, जिनांओ गलांदे फलेत्र

दिखा माहणुओ बरखा कदेया, कहर तरती पर ढाया

चोंई पासे होआ पाणीं पाणी, कदेया पलच्छ भरप्पाया

सुषमा देवी

गाॅव व डाॅकघर भरमाड़़

तहसील ज्वाली जिला काँगड़ा

हिÛ प्रÛ
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply