Page 1 of 1

फोटोग्राफ---रामचंद्र किल्लेदार

Posted: Sat Oct 20, 2018 11:34 am
by admin
फोटोग्राफ



भविष्य में जीवंत रखने का
वतर्मान को उसी रूप में

प्रयास भर ॰॰॰॰॰ |

कृपा
फव्वारे की तरह “ वह “
निरन्तर बहता है ---
अब यह “ पात्र” पर
निर्भर करता है कि --
वह कितना भरता है ॰॰॰॰|